संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद् (UNHRC) में पाकिस्तान (Pakistan) ने एक डोजियर पेश किया है। जिसका पहले पेज लीक हो गया है। यह लीक दस्तावेज पर पाकिस्तान की मीडिया में काफी चर्चा की जा रही है। इस दस्तावेज के शुरुआती पृष्ठ में कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) और नेशनल कांफ्रेंस के उमर अब्दुल्ला के बयान लिखे हुए हैं।

बता दें, 24 अगस्त को कश्मीर दौरे से लौटाए जाने के बाद राहुल गांधी ने केंद्र सरकार पर हमला बोलते हुए दावा किया कि वहां उन्हें उस बर्बरता का अहसास हुआ जिसको कश्मीरी झेल रहे हैं। इसके पहले 10 अगस्त को कांग्रेस वर्किंग कमेटी (CWC) की मीटिंग से बाहर आते हुए मीडिया से बातचीत में राहुल ने एक ऐसा बयान दिया था। राहुल ने कहा था- अभी तक जितनी भी जानकारी मिल सकी है उसके मुताबिक वहां (कश्मीर) गलत हो रहा है और लोग मारे जा रहे हैं।

गौरतलब है की कश्‍मीर में हालात को लेकर पाकिस्‍तान का मीडिया और इमरान सरकार के मंत्री फर्जी खबरों के आधार पर दुष्‍प्रचार कर रहे हैं। लेकिन राहुल गांधी के गैरजिम्मेदाराना बयानबाजी की वजह से उनके प्रोपेगैंडा को नई ताकत मिली। उनके इस बयान को पाकिस्तान ने हाथोहाथ लिया।

पाकिस्तान ने राहुल गांधी के बयान को आधार बनाकर यूनाइटेड नेशंस (United Nations) को एक ख़त भी लिखा है जिसमें भारत पर कश्मीर (Kashmir) में हिंसा और मानवाधिकार उल्लंघन जैसे आरोप लगाए गए थे। इस लेटर में साफ लिखा गया था कि भारतीय नेता राहुल ने भी माना है कि ‘कश्मीर में लोग मर रहे हैं’ और वहां हालात सामान्य नहीं हैं।

पढ़े : पाकिस्तान ने UN को लिखे खत में कहा, राहुल गांधी भी मान रहे है की कश्मीर में लोग मर रहे हैं

आज यूएनएचआरसी में आज कश्मीर (Kashmir) आधारित सेशन में भारत और पाकिस्तान दोनों अपने दावे पेश करेंगे। जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) की मौजूदा स्थिति को लेकर यूएनएचआरसी में भारत और पाक एक-दूसरे के तर्कों को खारिज करने का प्रयास करेंगे। पाकिस्तान जम्मू-कश्मीर में कथित मानवाधिकार के हनन पर पाकिस्तान ने भारत के खिलाफ प्रस्ताव लाने के लिए पूरा जोर लगाएगा। पाकिस्तानी विदेश मंत्री कुरैशी आज दोपहर में पाकिस्तान का बयान रखेंगे।

पाकिस्तान के बयान के तुरंत बाद ही भारत भी अपना बयान रखेगा। अगर पाकिस्तान कश्मीर मुद्दे पर रोना रोता है तो भारत उसका पूरजोर तरीके से जवाब देगा। एक अधिकारी ने कहा कि भारतीय प्रतिनिधिमंडल पाक के कुछ घंटे बाद अपना बयान देगा और  भारत के पास “जवाब का अधिकार” होगा। भारतीय पक्ष का नेतृत्व विदेश मंत्रालय के एक सचिव द्वारा किया जाएगा और इसमें अजय बिसारिया शामिल होंगे।