2017 के टेरर फंडिंग मामले में एनआईए की कार्रवाई लगातार तेज़ होती जा रही है। आज नेशनल इनवेस्टिगेशन एजेंसी ने श्रीनगर में आतंकी संगठन दुख्तरन-ए-मिल्लत की चीफ आसिया अंदराबी पर शिकंजा कसा। एनआईए ने श्रीनगर के सौरा इलाके में आसिया अंदराबी के आलीशान बंगले को जब्त कर लिया। इससे संबंधित नोटिस मकान के गेट पर चिपका दिया गया है। इसके मुताबिक अनलॉफुल एक्टिविटीज़ प्रिवेंशन एक्ट के तहत इस प्रॉपर्टी को अटैच किया गया है।

एनआईए ने इस कार्रवाई के बाद कहा कि आसिया अंद्राबी के घर की कोई तलाशी नहीं ली गई और टेरर फंडिंग केस में मनी लॉन्ड्रिंग को लेकर उनका घर अटैच किया गया है। जब तक पूरे मामले की जांच चल रही है आसिया अंद्राबी इस संपत्ति को बिना एनआईए की परमिशन के ना तो बेच सकती है, और ना ही प्रॉपर्टी ट्रांसफर या किराये पर नहीं दे सकती है, हालांकि उसका परिवार यहां रह सकता है।

आपको बता दें कि प्रतिबंधित आतंकी संगठन दुख्तरन-ए-मिल्लत की मुखिया आसिया अंदराबी फिलहाल तिहाड़ जेल में हैं। जिससे पूछताछ में पता चला था कि कैसे पाकिस्तान से आये टेरर फंड को आसिया ने न सिर्फ घाटी में आतंकवाद को बढावा देने में इस्तेमाल किया। बल्कि उसी पैसे को आसिया ने मलेशिया और ऑस्ट्रेलिया में पढ़ रहे बेटे को भी ट्रांसफर किया। ये आसिया वही है जिसने 2015 में गाय काटी थी, वीडियो वायरल होने के बाद उसे गिरफ्तार भी किया गया था।

कश्मीर यूनिवर्सिटी से विज्ञान में स्नातक अंद्राबी चार साल पहले पाकिस्तानी झंडा फहराने और पाकिस्तानी राष्ट्रगान गाने के कारण सुर्खियों में आई थी। अंद्राबी के इस काम के पीछे हाफिज सईद को माना जाता है। NIA की पूछताछ के दौरान अलगाववादी नेता आसिया अंद्राबी ने स्वीकार किया है कि वह पाकिस्तानी सेना के एक अधिकारी के जरिये लश्कर-ए-तैयबा के सरगना हाफिज सईद के करीब आई। यह अधिकारी अंद्राबी का भतीजा बताया जाता है।

एनआईए सूत्रों के मुताबिक अंद्राबी का यह भतीजा पाकिस्तान सेना में कैप्टन रैंक का अधिकारी है। उसका एक अन्य करीबी रिश्तेदार पाकिस्तान सेना और खुफिया एजेंसी आईएसआई के संपर्क में है। अंद्राबी के रिश्तेदार दुबई और सऊदी अरब में भी हैं जहां से वह फंड प्राप्त करती है और भारत के खिलाफ गतिविधियों में इस्तेमाल करती है।

Leave a Reply