राजस्थान में कानून व्यवस्था की हालत बेहद चिंताजनक हैं। महिलाओ पर अत्याचार रुकने का नाम नही ले रहा है, ताजा मामला बांसवाड़ा जिले का हैं। यहाँ एक गर्भवती लड़की के साथ सामूहिक बलात्कार किया गया। रेप के बाद उसके आठ सप्ताह के भ्रूण की भी मौत हो गई और उसके प्रेमी ने प्रेमिका को ना बचा पाने की वजह से आत्महत्या कर ली।

खबर के मुताबिक, यह घटना बासंवाड़ा के सदर थाना क्षेत्र के मालाबस्ती गांव की है। 13-14 जुलाई की रात 10 बजे बाइक सवार प्रभु उर्फ बापूडा अपनी 20 वर्षीय प्रेमिका के साथ जा रहा था। रास्ते मे तीन युवकों ने प्रभु पर तलवार से हमला किया। उन्‍होंने प्रभु के साथ मारपीट कर उसका मोबाइल छीन लिया। तीनों आरोपी युवक युवती को सुनसान इलाके में ले गए और उसके साथ दुष्कर्म किया। उन्‍होंने बाद में अपने दो अन्य दोस्तों विजय और पप्पू को भी वहां बुला लिया।

पांचों आरोपियों ने वहां शराब पी और उसके बाद विजय और पप्पू गुर्जर ने भी युवती के साथ दुष्कर्म किया। युवती का प्रेमी उसे बचा नहीं पाया इसलिए उसने उसी रात रास्ते में एक नीम के पेड़ से लटकर कथित तौर पर आत्महत्या कर ली। लाल ने बताया कि 14 जुलाई को ग्रामीणों की सूचना पर पुलिस ने युवक के शव को पोस्टमॉर्टम के बाद परिजनों को सौंप दिया। सुबह लगभग चार बजे आरोपी युवती को बेसुध हालत में फेंककर भाग निकले। प्रभु के पिता की शिकायत के आधार पर अज्ञात के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किया गया था।

सीओ पार्वती लाल ने मामले की जानकारी देते हुए बताया कि घटना के एक आरोपी जितेंद्र ने चोरी किया गया मोबाइल अपनी पत्नी को दिया। पुलिस उसी फोन को ट्रेस करके जितेंद्र तक पहुंची और उसको 26 जुलाई को अपहरण और सामूहिक दुष्कर्म के आरोप में गिरफ्तार कर लिया। आरोपियों के खिलाफ अपहरण और सामूहिक दुष्कर्म की धाराओं में मामला दर्ज किया गया है।