उत्तर प्रदेश: हिन्दू समुदाय के मन्दिर पिछले कुछ दिनों से लगातार कट्टरपंथी जेहादी तत्वों के निशाने पर बने हुए है। पहले दिल्ली के 100 साल पुराने दुर्गा मंदिर को निशाना बनाया गया, फिर मुजफ्फरनगर और आगरा के मन्दिरो में तोड़फोड़ की गई और अब उत्तरप्रदेश कर बुलंदशहर जिले से कुछ दिनों के अंदर ही चौथी घटना सामने आई है।

साम्प्रदायिक तनाव बढाने वाली ऐसी खबरों का सिलसिला अभी थमा भी नही था कि बुलंदशहर के जहाँगीरबाद से बेहद घृणित और साम्प्रदायिक सद्भाव को तार-तार कर देने वाली खबर आई है। यहाँ इरशाद उर्फ़ ईरानी नाम के एक मुस्लिम युवक ने इलाके में स्थित महादेव के मंदिर में शिवलिंग पर पेशाब कर दिया। जिसकी वजह से इलाके में तनाव का माहौल है। प्राचीन शिव मंदिर की पवित्रता को तार-तार करने वाले इरशाद के ख़िलाफ़ बजरंग दल के सदस्यों ने पुलिस में शिक़ायत दर्ज की। इसके बाद बुलंदशहर पुलिस ने उसे तुरंत गिरफ़्तार कर लिया।

सुदर्शन न्यूज़ की एक ख़बर के अनुसार, बजरंग दल के सदस्य ने बताया कि “ईरानी नाम के एक मुस्लिम व्यक्ति को जहांगीराबाद क्षेत्र की पुरानी मंडी के प्राचीन शिव मंदिर के शिवलिंग पर पेशाब करते हुए रंगे हाथों पकड़ा गया। वह अक्सर मंदिर परिसर के आसपास छिपा हुआ पाया जाता था। यहाँ के लोग उसके कृत्य से नाराज़ हैं। वह वहाँ से भाग गया है। उसके ख़िलाफ़ पुलिस शिक़ायत दर्ज की गई थी और उसे घर से भगा दिया गया था।”

बुलंदशहर पुलिस ने इस घटना की पुष्टि करते हुए ट्वीट किया कि आरोपी ‘इरशाद’ को भारतीय दंड संहिता धारा-295 के तहत (धर्म का अपमान करने के इरादे से पूजा स्थल पर चोट पहुँचाना या परिभाषित करना) और धारा-153 ए (विभिन्न धार्मिक समूहों के बीच दुश्मनी को बढ़ावा देना) के तहत मामला दर्ज किया गया है और उसे तुरंत जेल भेज दिया गया।