भीलवाड़ा में गैंगरेप बाद जान बचाने को सड़क पर आधा किलोमीटर बिना कपड़े के दौड़ती रही लड़की, राहगीरों ने ढका तन

- Advertisement -

राजस्थान के भीलवाड़ा (Bhilwara) जिले के शाहपुरा थाना (Shahpura) क्षेत्र में गैंगरेप का सनसनीखेज मामला सामने आया है। यहां तीन लोगों पर एक किशोरी (नाबालिग लड़की) के साथ खेत में गैंगरेप (Gangrape) करने का आरोप लगा है। आरोपियों ने पीड़िता के साथ वहशीपन की तमाम हदें पार कर दीं। पीड़ि‍ता के शरीर को जगह-जगह नोच डाला गया, जिससे वो लहूलुहान हो गई। किशोरी ने बिना कपड़ों (Without Clothes) के किसी तरह वहां से भागकर जान बचाई। बाद में उसे इस हालत में देखकर लोगों ने उसका तन ढका।

भीलवाड़ा शाहपुरा थानाप्रभारी भजनलाल के मुताबिक, 14 से 15 साल की दो किशोरियां जलझूलनी एकादशी पर धर्मस्थल पर दर्शन करने तहनाल के लिए गांव से ऑटो में बैठी। शाहपुरा पहुंचने के बाद एक किशोरी का रिश्तेदार मिल गया। वह दोनो किशोरियों को बाइक पर बैठाकर तहनाल के लिए रवाना हुआ।

- Advertisement -

तीन शराबियों ने रोका

आरोप है कि तहनाल के कच्चे रास्ते पर विद्युत ग्रिड स्टेशन के पास तीन लोग बैठकर शराब पी रहे थे। उन्होंने उन सभी को रोक लिया। उन्होंने युवक से मारपीट की और उसे वहां से भगा दिया। आरोपी दोनों किशोरियों को खींचकर सड़क से दूर जंगल में ले गए। एक किशोरी युवकों से संघर्ष कर हाथ छुड़ाकर भाग गई। आरोपियों ने दूसरी किशोरी के कपड़े फाड़ दिए और उसके साथ गैंगरेप किया।

राहगीरों ने पीड़िता का तन ढका

बदहवास लड़की किसी तरह शराबियों के चंगुल से छूटकर भागी। इसके बाद वह नग्नावस्था में ही सड़क पर आधा किलोमीटर दौड़ती और फिर गश खाकर गिर। वहां से गुजर रहे लोगों ने जब पीड़ि‍ता को निर्वस्‍त्र देखा तो उन्‍होंने उसका तन ढका। इधर, आरोपियों ने जिस युवक को मारपीट कर भगाया था। वह शाहपुरा से अपने साथियों को लेकर वहां पहुंचा तो पीड़िता सड़क पर बेहोश पड़ी थी। उन्होंने उसका उपचार कराया और पीड़ि‍ता को उसके घर पहुंचाया।

रात को मां के साथ थाने पहुंची पीड़िता

उसके बाद देर रात अपनी माँ के साथ पीड़िता शाहपुरा थाने पहुंची। वहां उसने आरोपी नारायण गुर्जर सहित तीन लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई। शाहपुरा सीआई भजनलाल के अनुसार, आरोपियों के खिलाफ पॉक्सो एक्ट (Pocso Act) में मामला दर्ज कर लिया गया है।मामले की जांच के लिए भीलवाड़ा से एफएसएल टीम को बुलवाया गया है।

बता दें कि अलवर के थानागाजी में भी ऐसी ही एक सनसनीखेज वारदात सामने आई थी। राजस्थान में कांग्रेस की अशोक गहलोत सरकार अपराधों को रोक पाने में लगातार अक्षम साबित हो रही है। यहाँ तक कि राज्य के थाने तक महफूज नही है, थानों पर हमला करके अपराधी छुड़ा लिए जाते है। बीते 4 माह में आधा दर्जन साम्प्रदायिक झड़प हो चुकी है। वहीं ऐसा कोई महीना नही बीतता जब महिलाओ के साथ गैंगरेप और रेप की खबरे ना आती है। इतना सब कुछ होने के बावजूद राज्य के मुख्यमंत्री बड़े चैन से बैठे हुए है।

- Advertisement -
error: Content is protected !!