उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ जिले के कोतवाली क्षेत्र स्थित एक गांव में गोकशी की सूचना पर छापा मारने गई एसओजी टीम को बड़ी कामयाबी हासिल हुई। यहाँ एक अवैध असलहा बनाने वाली फैक्ट्री भी उनके पकड़ में आ गयी। इस कार्रवाई के दौरान पुलिस ने गोवध करते रंगे हाथ 12 लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया। मौके से भारी मात्रा में निर्मित,अर्द्ध निर्मित असलहा सहित अन्य उपकरण बरामद किया।

नगर कोतवाली के ककरहटा गांव में मुखबिर के जरिए पशुवध की सूचना मिलने पर नगर कोतवाली प्रभारी निरीक्षक अनिल कुमार सिंह और स्वाट टीम प्रभारी निरीक्षक के साथ पुलिस टीम गांव के कब्रिस्तान पर पहुंची। इस दौरान पुलिस टीम एक अभियुक्त के घर पर धमक पड़ी। पुलिस टीम को देखते ही अभियुक्त अपने साथियों के साथ घर में घुस गया। इस दौरान कसाइयों ने पुलिस टीम पर धारदार हथियार से जानलेवा हमला कर दिया। पुलिस ने धारदार हथियार को कब्जे में लेते हुए भाग रहे तस्करों को धर दबोचा। घर की तलाशी लेने पर भारी मात्रा में अवैध निर्मित व अर्द्ध निर्मित असलहे और असलहे बनाने के उपकरण बरामद किए गए। इसके अलावा प्रतिबंधत मांस भी मौके से बरामद किए गए।

पुलिस अधीक्षक त्रिवेणी सिंह ने बताया कि गिरफ्तार असलहा तस्करों का सरगना महबूब आलम शेख पुत्र मो.जलील अहमद, उसके साथ अब्दुल वदूद पुत्र मो.जलील अहमद, टीपू सुल्तान पुत्र महबूब आलम शेख, मो.सुहैल पुत्र अमिनुद्दीन ककरहटा गांव और मो.जैश पुत्र सैय्यद मुख्तार,रिजवान अहमद पुत्र रियाज अहमद, जौवाद अहमद पुत्र स्व.अली हुसैन बगल के गांव मनचोभा का निवासी है।

जबकि सफीक पुत्र फारूक,आरिफ पुत्र आलम गिर बिलरियागंज थाने के खानिगह बिंदवल गांव का निवासी है। इसके अलावा जमील अहमद पुत्र स्व.जब्बार मुबारकपुर थाने के ढकवा, फैज अहमद पुत्र अनवार अहमद पुरानी बस्ती, मो.तारिक पुत्र मो.मुस्लिम बम्हौर गांव का निवासी है। तलाशी लेने पर 12 पीस चापड़, अर्ध निर्मित 17 पीस नाल, तीन पीस हथौड़ा, एक कुल्हाड़ी, 34 पीस रेती, चार पीस पिलास, चार पीस सड़सी, दो पीस 32 बोर का रिवाल्वर, 22 बोर का रिवाल्वर, तमंचा और शस्त्र बनाने के उपकरण सहित कार्बाइन और राकेट लॉन्चर बनाने के सामान भी बरामद हुआ।

एसओजी टीम को इस बड़ी कामयाबी पर पुलिस अधीक्षक आजमगढ़ त्रिवेणी सिंह ने इस टीम को 25000 रुपए के पुरस्कार से सम्मानित किया है।