जम्मू और कश्मीर पर भारत से बुरी तरह बौखलाए पाकिस्तान ने घाटी के मसले पर आखिर सच कबूल ही लिया। मंगलवार (10 सितंबर, 2019) को जिनेवा में यूनाइटेड नेशनल ह्यूमन राइट्स काउंसिल (यूएनएचआरसी) के 42वें सत्र को संबोधित करने के बाद पाकिस्तानी विदेश मंत्री ने जम्मू और कश्मीर को भारत का हिस्सा बताया। उन्होंने कहा कि ‘जम्मू और कश्मीर भारत का राज्य’ है।

जेनेवा में पाकिस्तान के विदेश मंत्री का ये कबूलनामा उस समय सामने आया जब वो कश्मीर को लेकर बयान दे रहे थे। पाकिस्‍तान के विदेश मंत्री कुरैशी ने कहा कि भारत लगातार कश्मीर को लेकर दुनियाभर में ये बता रहा है कि वहां जिंदगी सामान्य हो रही, लेकिन उन्होंने कश्‍मीर को बिल्‍कुल जेल की तरह बना दिया है। कुरैशी ने जम्‍मू कश्‍मीर के हालात की तुलना रवांडा से कर डाली।

पाकिस्‍तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी जेनेवा में यूनाइटेड नेशंस के मानवधिकार परिषद (यूएनएचआरसी) के 42वें सत्र में शामिल होने के लिए पहुंचे हैं। जहां उन्होंने कश्‍मीर का मुद्दा उठाया। इसी दौरान उन्होंने कश्मीर को लेकर एक बयान में माना कि ये भारतीय राज्य है। ऐसा पहली बार है जब पाकिस्तान के विदेश मंत्री की तरफ से कश्मीर को लेकर इतना बड़ा बयान दिया गया है। हालांकि, अपने बयान के दौरान कुरैशी ने कश्मीर के ताजा हालात का भी जिक्र किया।

शाह महमूद कुरैशी ने कहा, ‘भारत की ओर से दुनिया के सामने ये दिखाने की कोशिश हो रही है कि कश्मीर में हालात सामान्य हो रहे हैं। अगर कश्मीर में सब नॉर्मल है तो भारत की ओर से अंतरराष्ट्रीय मीडिया को वहां जाने क्यों नहीं दिया जा रहा है? अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं और एनजीओ को भारतीय राज्य जम्मू और कश्मीर में क्यों नहीं जाने दिया जा रहा?’ कुरैशी ने आगे कहा, ‘जिस दिन कश्मीर से कर्फ्यू हटेगा, पूरी सच्चाई सामने आ जाएगी।’

इसी बीच, जिनेवा में यूनाइटेड नेशंस (यूएन) दफ्तर में यूनाइटेड नेशनल ह्यूमन राइट्स काउंसिल (UNHRC) के 42वें सत्र के दौरान वर्ल्ड सिंधी कांग्रेस ने पाकिस्तान के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया।

जिनेवा में UN ऑफिस के बाहर प्रदर्शन करते हुए वर्ल्ड सिंधी कांग्रेस के पदाधिकारी

शाह महमूद कुरैशी के बयान में जो बात गौर करने वाली है वह है कि पाकिस्‍तान के मंत्री ने अंतरराष्‍ट्रीय मंच पर कश्‍मीर को ‘भारत का राज्‍य’ कहकर संबोधित किया है। यह पहला मौका है जब ऑन द रिकॉर्ड पाक के किसी मंत्री ने कश्‍मीर के लिए यह बात कही है। इस दौरान कुरैशी ने आगे कहा कि अगर भारत ने पीओके में कुछ करने की कोशिश की तो फिर पाकिस्‍तान किसी बाहरी एजेंसी को यहां तक आने की इजाजत दे देगी।