बीजेपी के 2019 लोकसभा चुनाव जीतने के बाद पीएम मोदी का पहले ट्वीट था ‘ सबका साथ सबका विकास और सबका विश्वास’। पीएम मोदी ने अपने विजयी भाषण में भी इस बात का जिक्र किया कि हम उन लोगो का भी विश्वास जीतना चाहते है जिन लोगो ने हमे वोट नहीं दिया। इसी के चलते 6 जुलाई से शुरू हुए देशव्यापी सदस्यता अभियान में मुस्लिम समुदाय के लोगो को पार्टी से जोड़ने पर खास जोर दिया जा रहा है। 5 वर्षों में वाराणसी में तमाम विकास कार्य करने के बावजूद शहर के अंदर कई बूथ ऐसे रहे जहां पीएम मोदी को 10 वोट भी प्राप्त नहीं हुए। ये तमाम बूथ मुस्लिम बहुल इलाके में आते है। मुस्लिम वोट हमेशा से बीजेपी के लिए मृगमरीचिका ही रहे है।

वाराणसी लोकसभा सीट में आने वाली उत्तरी विधानसभा क्षेत्र के सिटी गर्ल्स स्कूल काजीसादुल्लापुरा के एक बूथ पर मात्र तीन वोट मिले। ऐसे ही कैंट विधानसभा क्षेत्र के तीन बूथ पर सात-सात व नौ वोट मिले। दक्षिणी के पांच बूथ पर पांच से नौ वोट मिले। इन बूथों पर 13 सौ से लेकर 15 सौ वोट हैं जिसमें से 55 से लेकर 62 फीसदी वोट पड़े थे। कैंट में 30 बूथों पर तो 10 से 59 वोट मिले। उत्तरी में 42 बूथों और दक्षिणी के 36 बूथों पर दो अंक में ही वोट मिले। इन बूथों पर कांग्रेस और सपा प्रत्याशियों को थोक के भाव वोट मिले।

खराब प्रदर्शन वाले कुछ बूथ

बूथ संख्या– मतदान केंद्र– मोदी को मिले मत

विधानसभा क्षेत्र शहर दक्षिणी

136- जामिया मदरसा मजहरूल उलूम कटेहर- 09

137- जामिया मदरसा मजहरूल उलूम कटेहर-05

138- जामिया मदरसा मजहरूल उलूम कटेहर-06

203– फलही गर्ल्स स्कूल कोइलाबाजार- 07

206- माडल एडूकेशन जू.हा.जुगलटोला कोइलाबाजार-09

विधानसभा क्षेत्र शहर उत्तरी

289- सिटी गर्ल्स स्कूल काजीसादुल्लापुरा- 03

290-सिटी गल्र्स स्कूल काजीसादुलापुरा- 08

296- मदरसा दयारतुल्ला इस्लाम चिराग उलूम रसूलपुरा- 06

विधानसभा क्षेत्र कैंट

223- मदरसा जामिया फरुखिया रेवड़ी तालाब-09

234- जयनारायण इंटर कालेज रामापुरा-07

272- दुर्गाचरण बालिका इंटर कालेज पांडेयहवेली- 07

ग्रामीण इलाके के मुस्लिम बहुल कई बूथों पर स्थिति रही खराब

ऐसा ही हाल मुस्लिम बहुल ग्रामीण इलाकों के बूथों पर भी रहा, सेवापुरी विधानसभा क्षेत्र में एक लाख 28 हजार और रोहनियां में एक लाख 45 हजार वोट मिले। इसके बावजूद दोनों विधानसभा क्षेत्रों में दो दर्जन ऐसे बूथ थे जिस पर मात्र 30 से 93 वोट मिले। सेवापुरी में 29 से लेकर 99 तक वोट मिले। सेवापुरी में ये बूथ बेसिक प्राथमिक विद्यालय अदमापुर, भेरहरा, हीरापुर, दिनदासपुर, खजुरी, मोबलाबीर, मुंगवार में हैं। रोहनियां में ये बूथ प्राथमिक पाठशाला कोटवां, कोरौती आदि स्थान पर स्थित थे।

हर पार्टी का अपना एक बेस वोट होता है। वह वर्ग जो उस पार्टी के प्रति खास झुकाव रखता है और उसकी जीत में अहम भूमिका अदा करता है। जहां पूरा चुनाव बीजेपी ने राष्ट्रवाद के मुद्दे पर लड़ा व राष्ट्रवादी हिन्दुओ के अपार जनसमर्थन से जीता। वहीं चुनाव जीतने के तुरन्त बाद मुस्लिमो का विश्वास जीतने, मुस्लिम छात्रों के वजीफे बढ़ाने, मदरसों को आधुनिक करने जैसी खबरें आने के बाद से बीजेपी का वोट बैंक ठगा सा महसूस कर रहा है।

वह लोग जिन्होंने बढ़े टैक्स, महँगा पेट्रोल और डीजल सिर्फ इसलिए खरीदा की जब पार्टी सत्ता में वापसी करेगी तो अपने कोर मुद्दों पर आगे बढ़ेगी। पर चुनाव जीतने के बाद से पार्टी के परंपरागत मुद्दे फिर हाशिये पर जाते दिख रहे है। राज्य सभा मे बहुमत न होने की बात कर के खुद को असहाय दिखाने वाली पार्टी मुस्लिम हित से जुड़े मुद्दों पर फ्रंट फुट पर खेल रही है। मुस्लिम की मॉब लीनचिंग पर पीएम मोदी दुख जताते है पर वही हिन्दू के साथ वही घटना होने पर शान्त हो जाते है। ऐसा न हो कि सबका विश्वास जीतने के चक्कर मे पीएम मोदी उनका विश्वास खो दें जिनको सिर्फ मोदी पर विश्वास था।