भारत के सख़्त तेवर का नतीजा है कि इमरान खान ने विंग कमांडर अभिनंदन को वापस भेजने का फ़ैसला किया है। छोड़ना तो उनको था ही लेकिन बदले में डील करना चाहते थे, भारत ने साफ़ किया था कि कोई डील नहीं होगी, कोई बात नहीं होगी, अभिनंदन को सकुशल वापस भेजे पाकिस्तान। भारत ने स्पष्ट कर दिया था कि ये हमारे देश के नागरिक का मामला है और इसमें कोई डील नहीं होगी। पाकिस्तान अगर अभिनंदन की आड़ में भारत को ब्लैकमेल करने की कोशिश कर रहा तो ग़लती कर रहा है।

भारत का स्टैंड साफ़ था कि बालाक़ोट में की गई कार्रवाई में इंडियन एयर फ़ोर्स ने जैश के ठिकानों को निशाना बनाया था, भारत ने रिहायशी इलाक़ों और पाक के सैन्य ठिकानों को निशाना नहीं बनाया था। लेकिन पाक के लड़ाकू विमान अगले दिन भारत की सीमा में दाख़िल हुए और भारत के सैन्य ठिकानों को निशाना बनाने की कोशिश की। ऐसा करके पाक ने तनाव को बढ़ाने की कोशिश की है।

पाकिस्तान कंधार की तरह दबाव बनाने की कोशिश में है जो कि हम होने नहीं देंगे। भारत विंग कमांडर अभिनंदन के मामले में किसी तरह का समझौता नहीं करेगा और उनकी सकुशल वापसी की उम्मीद करता है। भारत ने पाक को लताड़ लगाई कि पुलवामा हमले के 13 दिनों बाद भी पाक जैश का हाथ होने से इनकार कर रहा है।

तो ये था भारत का पाकिस्तान को घुटने पर लाने वाला कूटनीतिक क़दम जिसके बाद गीदड़भभकी देने वाले इमरान खान ने विंग कमांडर को वापस भेजने का फ़ैसला किया है।

अभिनंदन का वीडियो/तस्वीर साझा कर पाक पहले ही फँस चुका था और भारत के कड़े रूख के साथ वैश्विक स्तर पर घिर चुके इमरान के पास विंग कमांडर को वापस भेजने के अलावा कोई चारा नहीं था। कल से पाकिस्तान का हर झूठ सामने आ रहा था, जिसमें सबसे बड़ा झूठ F-16 और दो पायलट के हिरासत में होने को लेकर बोला गया था। पाकिस्तान के विदेश मंत्री गिड़गिड़ा रहे थे लेकिन मसूद को अजहर ‘साहब’ कहना नहीं भूले।

रही बात इमरान खान के शांति के पुजारी बनने की तो.. पुलवामा हमले की निंदा में इमरान की ज़ुबान काँपती है। इमरान खान पाकिस्तान की ज़मीन पर उनके पैसों से पल रहे आतंकी कैंपों को ध्वस्त करें, मुम्बई-पठानकोट-उरी-पुलवामा सहित कई आतंकी हमलों की साज़िश रचने वाले मसूद और हाफ़िज़ को भारत के हवाले कर दें, कराची में बैठे दाऊद को भारत के हवाले करें। भारत में धर्म के नाम भड़काना, ब्लास्ट के लिए तैयार किए गए स्लीपर सेल का खेल खेलना बंद करें। अपने देश की तरक़्क़ी के लिए काम करें, अपने वतन के लोगों के साथ सुकून से रहें और भारत में अशांति पैदा करना बंद कर दें, कश्मीर को भारत से अलग करने का ख़्वाब न देखें। आपका चुनाव प्रचार मसूद अजहर ने ख़ूब किया, सब जानते हैं। और हाँ वो रिवर्स स्विंग वाली चीटिंग ना करना। तब भारत भी पाक का अच्छा दोस्त बनकर रहेगा और हम सब भी पाकिस्तान घूमने आएँगे। हो पाएगा?…..हुआ तो ये आम भारतीय उस दिन आपको सलाम करेगा। #Abhinandan

लेखक कमल तिवारी जी को फेसबुक पर फॉलो करें 

Leave a Reply