सतना जिले के चित्रकूट से अपहरण किए गए दो भाइयों की हत्या कर दी गई है। रविवार सुबह पुलिस ने दोनों छात्रों के हत्या की पुष्टि की। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार, दोनों छात्रों का शव यूपी के बांदा जिले के बबेरू से मिले है। अगवा जुड़वा बच्चों के शव यमुना नदी के बबेरू घाट के किनारे बरामद किए गए थे। बांदा में बच्चों का पंचनामा कराया जा रहा है। हत्या करने के बाद अपराधियों ने शव को अवगासी घाट पर फेंक दिए थे।

जानकारी के मुताबिक अपहरणकर्ताओं ने बच्चों से पूछा कि क्या हमें पहचान लोगे, इस पर बच्चों ने हां कहां। इसी के बाद अपहरणकर्ताओं ने दोनों बच्चों के हाथ-पैर बांध कर यमुना में फेंक दिया।

क्या है पूरी घटना?

यह घटना 12 फरवरी की है। सतना जिले के चित्रकूट में बाइक सवार दो नकाबपोश बदमाश स्कूल बस को रुकवाया और उस पर चढ़ गए। उसके बाद उन्होंने बंदूक की नोंक पर दो सगे भाईयों ‘श्रेयांश’ और ‘प्रियांश’ का अपहरण किया। वारदात में साढ़े पांच लाख के इनामी अंतरराज्यीय गैंग सरगना बबुली कौल का हाथ होने की आशंका जताई जा रही थी। इसके बाद मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भी मामले में संज्ञान लिया था। सीएम कमलनाथ ने डीजीपी वीके सिंह से पूरे मामले की रिपोर्ट मांगी थी और अपहरणकर्ताओं को जल्द गिरफ्तार करने के दिए निर्देश दिए थे।

बच्चों की बरामदगी और अपहरणकर्ताओं की गिरफ्तारी के लिए यूपी और मध्यप्रदेश पुलिस की संयुक्त टीमें गठित की गई थीं। लेकिन यूपी और एमपी की पुलिस बच्चों की बरामदगी में फेल रही। इसके बाद मामले की जांच STF को सौंपी गई थी। लेकिन उसके भी हाथ खाली रहे। कहा जा रहा है कि 25 लाख रुपए फिरौती देने पर भी बच्चों की जान नहीं बची। बताया जा रहा है कि अपहरणकर्ताओं ने परिवारवालों से 1 करोड़ रुपए की फिरौती मांगी थी। पुलिस इस मामले में कई लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है। हालांकि, इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं हो पाई है।

Leave a Reply