सहारनपुर में तीन तलाक पीड़िता पर अपने पिता के उम्र के व्यक्ति के साथ हलाला करने का दबाव बनाए जाने का मामला सामने आया है। पीड़िता ने जिलाधिकारी DM से गुहार लगाई ताे यह मामला खुला। इससे भी अधिक हैरान कर देने वाली बात यह है कि Saharanpur Police ने मुकदमा दर्ज करने के बाद पीड़िता के Statement तक दर्ज नहीं कर रही थी। अब जिलाधिकारी के आदेशाें के बाद Police ने पीड़िता के बयान दर्ज किए हैं।

जानकारी के अनुसार सहारनपुर की रहने वाली रबिया का निकाह करीब तीन साल पहले उत्तराखंड के रहने वाले राव मुनीर के साथ हुआ था। पीड़िता पेशे से डॉक्टर है। राबिया ने कहा कि वह अपने पति के साथ एक दिन घूमने के लिए गई थी वहां किसी बात को लेकर हुई मामलू कहासुनी के बाद पति ने अपने मामा के कहने पर 30 जनवरी 2017 को तलाक-तलाक-तलाक कहते हुए तलाक दे दिया था। इस घटना के बाद पीड़िता अपने मायके चली आई।

राबिया अब तक इस सदमे से उबरी नहीं थी कि ससुराल वालों ने उस पर ”हलाला”  का दबाव बनाना शुरु कर दिया।  पीड़िता राबिया की माने तो पति राव ने भी अपने अधेड़ मामा और छोटे भाई (देवर) के साथ हलाला करने को कहा। उसने वापस ससुराल ले जाने की बात की तो पति ने दारुल उलूम का फतवा दिखाकर हलाला कराने की शर्त रख दी।  जब मामा के साथ हलाला करने का दबाव बनाया गया तो राबिया को शक हुआ कि मामा ने साजिश के तहत पहले तलाक दिलवाया और खुद से ही हलाला करने का दबाव बनाया। इस मामले में जब राबिया ने मामा से बात करने कि कोशिश तो उन्होंने अपना रुतवा दिखाते हुए चुप्पी साध लेने को कहा।

इस पर पीड़िता ने पुलिस थाने पहुंचकर रिपोर्ट दर्ज कराई लेकिन मामले में जांच आगे नहीं बढ़ सकी। इस बीच पीड़िता ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और सीएम योगी आदित्यनाथ को भी अपनी व्यथा लिखी फिर भी जांच आगे नहीं बढ़ सकी। सोमवार को पीड़िता डीएम आलोक कुमार पांडेय के पास शिकायती पत्र लेकर पहुंची। अब पीड़िता की गुहार पर जिलाधिकार ने इस मामले का संज्ञान लिया ताे पीड़िता के बयान दर्ज हाे सके।

मीडिया के साथ बातचीत में पीड़िता ने कहा कि जैसा उसके साथ हुआ है ऐसा किसी अन्य के साथ ना हाे यही साेचकर वह इस मामले काे पुलिस थाने तक लेकर आई है और वह मजबूती के साथ अपनी लड़ाई काे लड़ेगी। इस मामले में सुप्रीम कोर्ट में तीन तलाक के खिलाफ केस लड़ने वाली फरहा फैज भी पीड़िता के साथ दे रही है। वहीं आराेपी मामा लइक अहमद का नाम खनन से भी जुड़ा रहा है।