जोधपुर: पाकिस्तान से भाग कर भारत आये हिन्दू परिवारों को जोधपुर विकास प्राधिकरण ने नोटिस देकर जमीन खाली करने का निर्देश दिया है। ये प्रवासी लगभग 6 सालों से जोधपुर में रह रहे हैं। ये हिन्दू परिवार पाकिस्तान से भारत तीर्थयात्रा के लिए मिलने वाले वीजा पर आए थे और अब ये जोधपुर में इक्कट्ठा रह रहे हैं। सरकार की तरफ से नोटिस जारी होने की वजह से ऐसे करीब 300 हिन्दू परिवार है जो बेहद घबराये हुए है।

गौरतलब है पाकिस्तान में हिंदू अल्पसंख्यकों का काफी उत्पीड़न होता है। उन पर अमानवीय अत्याचार किए जा रहे हैं और उनकी बेटियों को जबरन धर्मांतरण कर मुस्लिम बनाया जा रहा है। हिन्दू महिलाओ का शारीरिक शोषण भी हो रहा है। ऐसे में कई हिंदू परिवार अपनी जान और इज्जत बचाने के लिए पाकिस्तान से भाग कर हिंदुस्तान आ रहे हैं।

इससे पहले राज्य की बीजेपी सरकार की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने पाकिस्तान से आये इन हिन्दू परिवारों के पुनर्वास के लिए कई कार्यक्रम चला रखे थे, उन कार्यक्रम में इनके लिए रोजगार, सस्ते दाम पर घर और नागरिकता आदि देने की व्यवस्था बनाई गई थी और करीब 20 हजार परिवारों का पुनर्वसन किया गया था।

परन्तु, जब से राज्य में कांग्रेस की सरकार बनी है यह सभी प्रोग्राम बन्द होने के कगार पर है और इन्हें कानूनी नोटिस देकर उल्टा इनका उत्पीड़न किया जा रहा है। गौरतलब है कि इस देश में रोहिंग्या आराम से रह सकते है, उनके लिए सुप्रीम कोर्ट भी सुनवाई करता है, देश के बड़े बड़े वकील और कथित बुद्धिजीवी उनके लिए आंसू बहाते है, लेकिन इन हिन्दू परिवारों की सुध लेने वाला कोई नही है।

आपको बता दे कि इस देश में 3 करोड़ से ज्यादा बंगलादेशी भी मजे से रह सकते है और यहाँ तक की भारत के नागरिको को ही कई इलाकों में मार कर भी खुला घूम सकते है। पर इन 200-300 हिन्दू परिवारों को राजस्थान की सरकार ने नोटिस थमा दिया है और कह दिया गया है की वो जहाँ रह रहे है वो सरकारी जमीन है और उन्होंने उसपर कब्ज़ा किया हुआ है और 48 घंटे में खाली कर दे।

गौरतलब है कि, इसी राजस्थान की राजधानी जयपुर के कई हिस्सों में बांग्लादेशियों ने मिनी बांग्लादेश तक बना लिया है पक्के मकान बना लिए है, और दंगे भी करते है फिर भी उनके लिए किसी प्रकार का कोई नोटिस अब तक सामने नहीं आया है, पर हिन्दुओ पर सरकारी जोर बड़ा ही चल रहा है।