बुधवार (8 मई) को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिल्ली के रामलीला मैदान से कांग्रेस पर तीखा हमला बोला। पीएम मोदी ने कांग्रेस पर आरोप लगाते हुए कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने अपनी व्यक्तिगत छुट्टी मनाने के लिए नौसेना के युध्दपोत आईएनएस विराट का प्रयोग किया था। उन्होंने कहा कि जो लोग उन पर सेना के राजनीतिक फायदे का आरोप लगाते हैं, वे खुद सेना का प्रयोग अपने निजी फायदे के लिए कर चुके हैं।

दरअसल, प्रधानमंत्री ने राजीव गांधी द्वारा आईएनएस विराट के जो निजी उपयोग की बात की, वो बात 1987-88 की है, जब राजीव गांधी अपने परिवार के साथ नव वर्ष की छुट्टियां मनाने एक द्वीप पर गये थे।इंडिया टुडे की खबर के मुताबिक इस छुट्टी के दौरान आईएनएस विराट का भी इस्तेमाल किया गया था, जो 10 दिन तक (छुट्टी पूरी होने तक) अरब सागर में रुका रहा। उस वक्त राजीव गांधी के साथ उनका पूरा परिवार, सोनिया गांधी के मायके वाले, पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण सिंह के भाई बीरेंद्र सिंह की पुत्री और पत्नी तथा बॉलीवुड अभिनेता अमिताभ बच्चन का पूरा परिवार भी साथ था।

जिस द्वीप पर गांधी परिवार छुट्टियाँ मनाने गया था, वह द्वीप कोचीन से तकरीबन 465 किलोमीटर दूर लक्षद्वीप के पास स्थित है। इसका नाम बंगाराम है। यहां पर विदेशी नागरिकों के आने पर किसी भी तरह की कोई पाबंदी नहीं होती है। इस द्वीप के बारे में तत्कालीन पुलिस चीफ पीएन अग्रवाल ने बताया कि यह ऐसा द्वीप है जहां की भौगोलिक स्थिति बेहद खूबसूरत है। हालांकि, गांधी परिवार के इस पिकनिक को काफी गुप्त रखने की कोशिश की गई थी। लेकिन जब अमिताभ बच्चन का हेलीकॉप्टर कावारत्ती द्वीप पर ईंधन भरने के लिए उतरा, तो इंडियन एक्सप्रेस के फोटोग्राफर ने तुरंत फोटो ले ली, जिससे यह सबके सामने आ गया।

प्रधानमंत्री ने अपना भाषण खत्म करने के बाद अपने ट्विटर सोशल मीडिया पर अपने ट्विटर अकाउंट से इंडिया टुडे का यह आर्टिकल शेयर किया। प्रधानमंत्री के द्वारा देश के सामने इसका पर्दाफाश करने के बाद अब इंडिया टुडे ने अपने आर्टिकल को एडिट कर दिया है। कल जब पीएम मोदी अपने भाषण में इसका जिक्र कर रहे थे, तब आखिरी बार यह आर्टिकल 9 दिसंबर 2013 को एडिट किया गया था, लेकिन 8 मई को पीएम के भाषण के बाद यह आर्टिकल उसी दिन पहले रात को 9:47 बजे, फिर 10:14 बजे और आखिरी बार 9 मई को दिन में 10:05 बजे एडिट किया गया। बहरहाल, अब इंडिया टुडे के मालिक की जो भी मजबूरी हो, लेकिन इसके पहले ही लोगों ने एडिट के पहले पुराने आर्टिकल खोज लिए हैं, जहां एडिट होने पर भी आर्टिकल में कुछ परिवर्तन नहीं होता है। आर्किव्ड आर्टिकल और अपडेटेड आर्टिकल को ध्यान से देखने पर पता चला कि इंडिया टुडे ने सिर्फ राजीव गांधी की फोटो बदली है। पहले आर्टिकल में वो डिस्प्ले पिक में पानी में से बाहर निकलते हुए दिखाई पड़ रहे हैं, जबकि अपडेटेड आर्टिकल में पानी के किनारे खड़े दिखाई दे रहे हैं।

बता दें कि गांधी परिवार के इस पिकनिक में 14 भारतीय, 6 इटालियन के साथ साथ 2 अनजान विदेशी नागरिक भी शामिल थे, जिनसे सिर्फ राजीव गांधी परिचित थे। पीएम मोदी ने अपने भाषण में कहा, “राजीव गांधी के साथ उनके ससुराल के लोग भी थे जो इटली से आये थे। सवाल यह है कि क्या विदेशियों को एक युद्धपोत पर ले जाकर देश की सुरक्षा के साथ समझौता नहीं किया गया?” इस युध्दपोत को भारतीय नौसेना में 1987 में सेवा में लिया गया था। करीब 30 वर्ष तक सेवा में रहने के बाद 2016 में इसे सेवा से अलग किया गया।

राजीव गांधी के इस हॉलिडे पर उस वक्त करीब 4.78 करोड़ रुपए खर्च किए गए थे, जो वर्तमान समय में 4,465.57 करोड़ रुपए होता है। हालांकि, ये पूरा खर्च नहीं था। इसके अलावा द्वीप का नॉर्मल खर्च अलग से था। 8 जनवरी को छुट्टियां बिताकर वापस आने के बाद सोनिया गांधी ने उन नौसेना के अधिकारियों को पुरस्कार दिया था, जिन्होंने उनके पिकनिक स्पॉट पर तमाम तरह की व्यवस्थाएं की थीं।

Leave a Reply