लोकसभा चुनाव के चलते देश का सियासी पारा बढ़ा हुआ है। ऐसे में नेताओ की सियासी बयानबाजी बेलगाम हो गयी है। इसी क्रम में रालोद प्रमुख चौधरी अजीत सिंह ने मुजफ्फरनगर में बीजेपी के खिलाफ बोलते हुए सारी हदें पार कर दी, उन्होंने कहा कि पिछले पांच साल से कश्मीर में पाकिस्तानी आतंकवादी कम, कश्मीरी आतंकवादी अधिक मारे गए हैं, भाजपा कश्मीर में दंगा कराकर चुनाव जीतना चाहती है।

जानसठ रोड स्थित एक बैंक्वेट हाल में सपा-बसपा नेताओं के साथ जनसंवाद कार्यक्रम में शामिल होने पहुंचे चौधरी अजित सिंह ने पत्रकारों से वार्ता में कहा कि बीते पांच साल से कश्मीर में लगातार घटनाएं बढ़ रही हैं। कश्मीर में पाकिस्तानी आतंकवादी कम, कश्मीरी आतंकवादी अधिक मरे हैं, हमारे जवानों की मौतें लगातार हो रही हैं। जब हम लोग यह कहते हैं कि कश्मीर हमारा है तो कश्मीर में रहने वाले लोग भी तो हमारे हुए।

अजित सिंह ने आगे कहा कि 2014 के चुनाव में भाजपा मुजफ्फरनगर में दंगा कराकर चुनाव जीत गई, अब कश्मीर में दंगा कराकर चुनाव जीतना चाहती है। उन्होंने कहा कि भारत की सेना के पराक्रम पर हमें गर्व है, लेकिन भाजपा सैनिक कार्रवाई को भुनाने में लगी है। मोदी सरकार सेना की बहादुरी के नाम पर देश को न बांटे।

बहरहाल मजहबी तुष्टिकरण में अजीत सिंह यह भूल गए कि आतंकवादी सिर्फ आतंकवादी होता है। अगर कोई देश के खिलाफ बन्दूक उठायेगा तो वह मारा जाएगा। इसका कोई महत्त्व नही है की वह कश्मीरी है या पाकिस्तानी, या फिर देश के किसी और हिस्से का रहने वाला है। बीजेपी की आलोचना के चक्कर में इस इस तरह की बयानबाजी घातक है और इससे सैनिकों का मनोबल टूटता है।