असम के कामरूप जिले से एक शर्मनाक घटना सामने आई है। यहां ईद के पावन अवसर पर आयोजकों द्वारा नृत्यमंडली के नर्तकियों को नग्न होकर नृत्य करने के लिए दबाव बनाया गया।

गत शुक्रवार को मुस्लिम युवकों ने असम के आसोलपारा के छायागांव में एक नृत्य कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। डांस ग्रुप शाम को ही आयोजन स्थल पर पहुंच गया। रंगारंग कार्यक्रम शुरू हुआ। जब नर्तकियों के डांस करने की बारी आई, तो उन्हें जबर्दस्ती कपड़े उतारकर डांस करने के लिए बाध्य किया गया। डांसर्स के इस समूह का नाम एमके डांस ग्रुप था, जो बोको से इस कार्यक्रम में दर्शकों का मनोरंजन करने आए थे।

डांस ग्रुप का कहना है कि जब नर्तकियाँ डांस कर रही थीं, तो करीब 800-900 दर्शकों की भीड़ उपद्रवी हो गयी और उन पर नग्न होकर डांस करने के लिए दबाव बनाने लगे। उपद्रवियों ने ऐसा ना करने पर उन्हें जान से मारने की धमकी भी दी। उन्होंने कहा कि अगर वे ऐसा नहीं करेंगे तो उनके साथ किसी भी अप्रिय घटना पर दर्शक जिम्मेदार नहीं होंगे। हालात इतने खराब हो गए तो कलाकरों को अपना कार्यक्रम बंद कर थियेटर खाली करना पड़ा।

Complaint filed with police. Source- via twitter

डांस ग्रुप के एक सदस्य का कहना है कि उपद्रवियों ने सेक्सुअल डांस ना करने पर नर्तकियों को मारा पीटा। उसके मुताबिक, “वो जगह बहुत भयावह थी। चारों तरफ से कंटीले तारों के बाड़ लगे हुए थे। हम सभी 42 की संख्या में थे। हम लोग बहुत डरे सहमे हुए थे। किसी भी तरह हम वहां से अपनी जान बचाकर भागे।” डांस ग्रुप के सदस्यों के मुताबिक, फिल्मों की तरह यहां भी स्थानीय पुलिस देरी से पहुंची और परिस्थितियों को नियंत्रण में नहीं कर सकी।

यह ग्रुप रात करीब 9 बजे बोको पुलिस स्टेशन पहुंचा और शिकायत की कि उन्हें अश्लील डांस करने के लिए बाध्य किया गया और ना करने पर मारा पीटा गया। उन्होंने अपने साथियों की मदद से पुलिस स्टेशन में प्रथामिकी दर्ज कराई।