आजमगढ़ उत्तर प्रदेश में मामूली विवाद में मुस्लिम समुदाय के लोगो ने दलित बस्ती पर हमला बोल दिया, और दलित परिवार के लोगों की जमकर पिटाई की। जो जहां मिला उसे वहीं जमकर पीटा। हमले में 10 लोग गंभीर रूप से घायल हो गए हैं। मुस्लिम समुदाय के लोगों ने बस्ती में जमकर तोड़फोड़ भी की है। घटना के बाद गांव में तनाव का माहौल है।

घायलों को खरेवां के अस्पताल में भर्ती कराया गया है। तनाव के बाद कई थानों की फोर्स गांव में तैनात कर दी गई है। एसपी ग्रामीण, सीओ फूलपुर देर रात तक मौके पर मौजूद रहे। आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस दबिश दे रही है।

दरअसल, बाइक की टक्कर को लेकर सरायमीर के बखरा गांव में गुरुवार रात आठ बजे एक मुस्लिम युवक का दलित बस्ती के रहने वाले अमन पुत्र रामअचल राम से विवाद हो गया था। अमन 10 साल का है। इसके बाद अमन घर चला गया। आरोप है कि थोड़ी देर बाद मुस्लिम समुदाय के लोगों ने दलित बस्ती पर लाठी-डंडों से हमला बोल दिया।

हमले से दलित बस्ती में अफरा-तफरी मच गई। हमले में सनोज, शिला, रामअचल, बिक्रम, जग्गी, अमन, अच्छेलाल, सनी, विशाल समेत 10 लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। सूचना पर डायल-100 सहित सरायमीर, दीदारगंज, फूलपुर आदि थानों की फोर्स मौके पर पहुंची। घटना को अंजाम देकर हमलावर मौके से फरार हो गए।

सभी घायलों को उपचार के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र खरेवां पहुंचाया। थोडी ही देर में अपर पुलिस अधीक्षक ग्रामीण एनपी सिंह, सीओ फूलपुर मौके पर पहुंच गए। तनाव को देखते हुए अतिरिक्त फोर्स बुलाई गई। एएसपी ने बताया कि मामूली विवाद में मारपीट हुई है। स्थिति नियंत्रण में है। पुलिस ने दोनों ही समुदाय के लोगों से शांति की अपील की है और अफवाहों पर यकीन ना करने की सलाह दी है।

सरायमीर के इस इलाके में पहले भी विवाद
सरायमीर थाना क्षेत्र के बखरा गांव के बीच से होकर रास्ता निकलता है जहां से आसपास के गांव के लोग आते-जाते हैं। इस रास्ते पर आने-जाने वाले लोगों से गांव के लोगों का विवाद होता ही रहता है। पास में ही मुस्लिम समुदाय के लोगों की बस्ती है। बखरा गांव के लोगों का कहना है कि पहले भी विवाद हुए हैं जिसमें थाने में शिकायत करने पर पुलिस उल्टे उनको ही समझाने लग जाती है जिससे मुस्लिम समुदाय के लोगों को शह मिलती है।

फ़ोटो साभार- अमर उजाला