उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद जिले से छुआछूत और भेदभाव का मामला सामने आया है। मुरादाबाद के थाना भोजपुर में मुस्लिम समाज के नाईयो ने दलितों के बाल काटने और दाढ़ी बनाने से मना कर दिया है। जो भी मुस्लिम नाई दलित समाज के लोगों के बाल काटने के लिए दूकान खोलता है, उसकी दूकान बंद करा दी जाती है और उसका जमकर विरोध किया जाता है।

इस मामले पर, मुस्लिम समाज के लोगों का कहना है कि जैसा पहले से होता आ रहा है, वैसे ही होते रहना चाहिए। यहां कभी भी मुस्लिम समाज के लोगों ने दलित समाज के लोगों के बाल नहीं काटे हैं, और ना ही दाढ़ी बनाई है।मुस्लिम नाईयो का कहना है कि यह जबरन विवाद पैदा किया जा रहा है, पहले ये लोग बाहर से बाल कटा कर आते थे, लेकिन अब यहाँ बाल कटाने आ रहे है, लेकिन हम नई परम्परा की शुरूआत नही करेंगे।

मुस्लिम नाईयो के इस सामाजिक बहिष्कार पर दलितों ने अपनी व्यथा करते हुए कहा है कि बाल न कटने के कारण उनके बच्चों की शादी नहीं हो पा रही है। उनका ये भी कहना है कि लोग पढ़-लिख तो गए हैं, लेकिन कोई सोच बदलने को तैयार नहीं है। एक पीड़ित ने बताया कि, “हमसे घृणा करने के कारण दुकाने बंद कर रखी हैं, हमारे बाल नहीं काटते, जिसकी वजह से कोई हमारे घर रिश्तेदारी नहीं करता, हमें कोई लड़की नहीं देता, हमारे रिश्तेदार हमसे कहते है कि तुमसे तो लोग घृणा करते हैं, तुम्हारे बाल नहीं काटते।”

जबकि वहीं मुस्लिम नाई समाज का कहना है कि, “अगर हम दलितों के बाल काटेंगे तो हमारे यहां मुसलमान बाल नहीं कटायेंगे और अगर हम इनके बाल नहीं काटते हैं तो ये प्रशासन में हमारी शिकायत कर देंगे।” मुस्लिम नाईयो ने कहा है कि वह किसी भी कीमत पर दलितो के बाल नही काटेंगे। एक बुजुर्ग दलित ने आरोप लगाया है कि नाई दुकान पर आने वाले ग्राहकों के नाम पूछ कर दलित को भगा देते है।

इस मामले में स्थानीय निवासी नौशाद ने मीडिया को बताया कि दलित पहले कभी भी गाँव में नाई की दुकान पर नहीं जाते थे। वे बाल कटाने और दाढ़ी बनवाने के लिए भोजपुर जाया करते थे। नौशाद का कहना है कि, “अगर दलित गाँव की इन दुकानों पर आकर बाल कटाएँगे और दाढ़ी बनवाएँगे तो तौलिए गंदे हो जाएंगे, फिर बाद में मुस्लिम कैसे अपने बाल बनवाएँगे?”

पूरे मामले में कार्रवाई करने को लेकर पीड़ित समाज पुलिस के पास पहुंच गया है। एसएसपी मुरादाबाद अमित पाठक ने जानकारी दी कि, ‘कार्यालय में कुछ लोग उपस्थित हुए और बताया कि कोई व्यक्ति है जो उनके साथ भेदभाव कर रहा है, ये थाना भोजपुर का मामला है। वहां के जो सीओ साहब हैं और जो वहां के एसडीएम हैं उनको जिलाधिकारी से बात करने के बाद एक संयुक्त टीम बना कर जांच करने को बोला गया है। यदि इसमें आरोप सत्य पाए गए तो भेदभाव सी जुड़ी धाराओं के हिसाब से कार्रवाई की जाएगी।”

1 COMMENT

Leave a Reply