कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी के सलाहकर सैम पित्रोदा द्वारा गुरुवार (9 मई) को 1984 के सिख नरसंहार को लेकर दिए गये शर्मनाक बयान का संज्ञान लेते हुए राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग ने सैम पित्रोदा को नोटिस जारी जवाब मांगा है।

बता दें कि सैम पित्रोदा ने 1984 के नरसंहार पर सिखों की भावनाएं आहत करने वाला शर्मनाक बयान दिया था। पित्रोदा ने इस नरसंहार को लेकर अपने बयान में कहा था कि ’84 का जो हुआ वो हुआ। वो बीती बातें हैं। इससे आगे बढ़ो।’ इसके बाद दिल्ली बीजेपी के प्रवक्ता तेजिंदर पाल सिंह बग्गा की शिकायत पर आयोग ने यह नोटिस कांग्रेस मुख्यालय 24, अकबर रोड के माध्यम से पित्रोदा को भेजा है।

इसके पहले तेजिंदर बग्गा ने पित्रोदा के खिलाफ मुकदमा भी दर्ज कराया। शुक्रवार (10 मई) को सिख समुदाय के लोगों ने कांग्रेस मुख्यालय और राहुल गांधी के घर के बाहर प्रदर्शन किया था। अपने बयान पर बवाल बढ़ने के बाद पित्रोदा ने आज अपने ट्विटर अकाउंट पर अपने परिवार के साथ स्वर्ण मंदिर की तस्वीरें पोस्ट कीं और दिखाने की कोशिश की कि वो सिखों के हमदर्द हैं।

सैम पित्रोदा इससे पहले भी शर्मनाक बयान दे चुके हैं। 14 फरवरी 2018 को हुए पुलवामा हमले के बाद की गई एयर स्ट्राइक पर उन्होंने कहा था कि इसके लिए पूरे पाकिस्तान पर हमला नहीं करना चाहिए। 26/11 के मुंबई हमले के संबंध में पित्रोदा ने कहा था कि कुछ 8-10 लोग पाकिस्तान से आए थे और उन्होंने कुछ लोगों को मार दिया। इसलिए हमें पाकिस्तान पर कारवाई नहीं करनी चाहिए।