उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के मथुरा (Mathura) जिले में बहुजन समाज पार्टी/बसपा (Bahujan samaj party/BSP) के जिलाध्यक्ष जयवीर सिंह और उसके साथी चंद्रभान पर 12 वर्षीय किशोर के साथ कुकर्म (unnatural act) करने का आरोप लगा है। बच्चे के साथ हुई घटना की तहरीर परिजन ने पुलिस (Police) को दी। जिसके आधार पर पुलिस ने जिलाध्यक्ष जयवीर सिंह के खिलाफ अप्राकृतिक कृत्य के आरोप में मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

पुलिस ने बताया कि बरसाना क्षेत्र निवासी पीड़ित बालक के पिता ने अपनी तहरीर में कहा है कि उसका 12 वर्षीय बालक पिछले दिनों राधाष्टमी के मौके पर कोसीकलां क्षेत्र के एक गांव में अपने बड़े भाई के पास आया था, जो एक मंदिर में महंत है। सात सितम्बर की शाम अचानक उसका पुत्र लापता हो गया। काफी खोजबीन करने के बाद भी उसका पता नहीं लगा।

बालक के पिता ने बताया कि देर शाम गांव के कुछ लोगों ने बताया कि बसपा जिलाध्यक्ष जयवीर सिंह और सुरवारी गांव के पूर्व प्रधान चंद्रभान बालक को अपने साथ बाइक पर ले गए हैं। काफी खोजबीन के बाद उसका पुत्र गांव के बाहर एक झोंपड़ी में बेहोश पड़ा मिला। बालक ने परिजनों को अपने साथ अप्राकृतिक कृत्य होने के बारे में बताया।

बालक को उपचार के लिए कोसीकलां के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया, जहां से चिकित्सकों ने उसे जिला अस्पताल रेफर कर दिया। अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद पीड़ित पक्ष ने रविवार को पुलिस में शिकायत दर्ज कराई।

इस मामले पर प्रभारी निरीक्षक दुर्गेश कुमार ने बताया, ‘पीड़ित पक्ष रविवार की रात थाने पहुंचा था, जहां उनकी तहरीर पर इन दोनों लोगों के खिलाफ धारा 377 और पॉक्सो अधिनियम में मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी गई है।’

इस बीच बसपा जिलाध्यक्ष जयवीर सिंह का कहना है कि उन पर लगाए गए आरोप निराधार हैं। गांव में चल रहे एक मुकदमे में उन पर दबाव बनाने के लिए साजिश के तहत उन्हें फंसाया गया है। उनका इस घटना से कोई लेना-देना नहीं है। इस मामले में पूर्व प्रधान को भी नामजद किया गया है।