उत्तर प्रदेश परिवहन विभाग के ड्राइवर और कंडक्टर ने अपनी संवेदनहीन हरकत से इंसानियत को शर्मसार कर दिया। रोडवेज बस से सफर कर रहे एक शख्स की मौत हो गई तो यह देख बस के चालक और परिचालक ने रास्ते में ही पत्नी को शव सहित जबरन सिर्फ उतारा ही नहीं बल्कि उसका टिकट भी छीन लिया और मौके से फरार हो गए। दंपती जनपद बहराइच से राजधानी लखनऊ अपने कैंसर से पीड़ित रिश्तेदार को देखने जा रहे थे।

मामला बाराबंकी जनपद के रामनगर चौराहे का है। परिवहन विभाग की बहराइच डिपो की बस (यूपी 40- टी -5510) में बुधवार की सुबह 50 वर्षीय राजू मिश्रा पत्नी मालती के साथ बहराइच से लखनऊ जाने के लिए सवार हुई। दोनों लखनऊ में कैंसर से पीड़ित अपने एक रिश्तेदार का हाल जानने के लिए जा रहे थे। लेकिन रास्ते में ही राजू मिश्रा की मौत हो गई। जब इसकी जानकारी बस ड्राइवर जुनैद और कंडक्टर सलमान को हुई तो उन्होंने उनकी पत्नी से टिकट छीन लिया और पति के शव के साथ नीचे उतार दिया।

महिला ने आरोप लगाया है कि, बस यात्रा का किसी तरह का कोई सबूत न रहे, इसके लिए बस के परिचालक ने उससे टिकट छीन लिया और बस लेकर भाग खड़ा हुआ। इस मामले पर बाराबंकी डिपो के केन्द्र प्रभारी मनोज कुमार ने कहा कि, उनके संज्ञान में यह प्रकरण नहीं है। मगर इसकी जांच करवाकर चालक और परिचालक के विरुद्ध आवश्यक कार्रवाई की जाएगी।

वही दैनिक जागरण की एक खबर के मुताबिक, घटना के लिए जिम्मेदार चालक-परिचालक पर कार्रवाई को लेकर अधिकारी भी हीलाहवाली कर रहे हैं। एआरएम आरएस वर्मा ने कहा कि घटना बहराइच डिपो की बस में हुई है और कार्रवाई भी वहीं से होगी। हम कुछ नहीं कर सकते।

जबकि रामनगर (बाराबंकी) प्रभारी निरीक्षक श्याम नारायण पांडेय ने बताया क‍ि बस यात्रियों की सूचना पर चालक से बात कर जल्द से जल्द हाईवे पर स्थित किसी अस्पताल में पहुंचाने की बात कही थी, लेकिन वह रामनगर चौराहे पर ही उतारकर भाग गया। इस संबंध में महिला ने न तो तहरीर दी है और न ही टिकट छीनने का आरोप लगाया था। शव का पोस्टमार्टम कराया गया है, जिसमें मौत का कारण स्पष्ट नहीं हो सका है। विसरा सुरक्षित रखा गया है।