मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में हनी ट्रैप (Honeytrap) के खुलासे से हड़कंप मचा हुआ है। हनी ट्रैप के मामले में अब तक पांच युवतियों की गिरफ्तारी हुई है। जानकारी के मुताबिक तीन युवतियां भोपाल (Bhopal) से और दो को इंदौर (Indore) से गिरफ्तार किया गया है। इन लड़कियों को पूर्व मंत्री के बंगले से गिरफ्तार की गया है।

महिला की गतिविधियों पर इंटेलीजेंस की टीम नजर रखे हुई थी। साथ ही एटीएस भी अपने स्तर पर साक्ष्य इकट्ठा कर रही थी। महिला के खिलाफ कुछ दिन पहले इंदौर के एक थाने में ब्लैकमेल करने की एफआईआर दर्ज की गई थी। पूछताछ में एटीएस को महिलाओं के मोबाइल से आपत्तिजनक फुटेज मिले हैं, जो उनके द्वारा की गई हनीट्रैपिंग की पुष्टि कर रहे हैं, लेकिन महिलाएं पूछताछ में ऐसे किसी मामले में लिप्त होने से साफ इंकार कर रही हैं।

कैसे चढ़ी हत्थे?

जानकारी के मुताबिक, इंदौर के नगर निगम इंजीनियर ने पलासिया थाने में शिकायत की थी कि उन्हें भोपाल की श्वेता जैन नाम की महिला ब्लैकमेल कर रही है और साथ ही 2 करोड़ रुपये की मांग कर रही है। मामले में पुलिस ने क्राइम ब्रांच और ATS की टीम से संपर्क किया और श्वेता जैन की तलाश शुरू की, जिसके बाद भोपाल के रिवेरा टाउन में श्वेता जैन की लोकेशन मिली। जांच के दौरान टीम को दूसरी श्वेता जैन और बरखा भटनागर के इनपुट मिले।

ATS की टीम सुबह करीब 5:50 पर इंदौर के महिला थाने पहुंची, जहां 6 बजे से इन्वेस्टिगेशन टीम ने फिर शुरू की पूछताछ। तीनों युवतियों ने 2 और लड़कियों के नाम बताए, जिसके बाद पुलिस ने इंदौर से करीब 6:45 पर सीमा और आरती को गिरफ्तार किया। आरती के पास से पुलिस ने एक लग्जरी कार भी बरामद की। फिलाहाल, पांचों युवतियों को इंदौर के महिला थाने में रखा गया है, जहां ATS, क्राइम ब्रांच और पुलिस की ज्वॉइंट टीम इनसे पूछताछ कर रही है।

हाईप्रोफाइल मामला सियासी गलियारे में हलचल तेज

पूछताछ के दौरान इंदौर भोपाल और एटीएस पुलिस को युवतियों के मोबाइल से कई वीडियो मिले हैं। वीडियो की जांच की जा रही है। वीडियो को देखकर अंदाजा लगाया जा रहा है कि गिरोह के लोग हाई प्रोफाइल लोगों को ब्लैकमेल कर चुकी हैं। मामले की सामने आने के बाद सियासी गलियारों में हलचल तेज हो गई है।

पुलिस सूत्रों की मानें तो यह गिरोह पहले भोपाल में आला प्रशासनिक अफसर और राजनेताओं को ब्लेकमेल कर चुका है। अबकी बार यह इंदौर के आला अफसरों, नेताओं और व्यापारियों को हनीट्रैप में फंसाने के बाद उनको कई तरह से ब्लैकमेल कर रहा था। चर्चा है कि हनीट्रैप के जरिए रियल स्टेट के कई काम करवाए गए हैं।