केरल पुलिस ने मलप्पुरम जिले के कोलाथुर इलाके में स्थित एक मदरसे से अरबी पढ़ाने वाले 35 वर्षीय मौलवी रफीक को सोमवार (23 सितम्बर, 2019) को गिरफ्तार किया। मौलवी पर आरोप है कि उसने मदरसे में पढ़ने वाली 17 साल की बच्ची का यौन उत्पीड़न किया।

पुलिस जांच में खुलासा हुआ है कि यह मदरसा अवैध रूप से बिना लाइसेंस के चलाया जा रहा था। जाँच में पुलिस को मदरसे से 12 और लड़कियाँ मिली हैं, जिन्हें फिलहाल आश्रय गृह भेज दिया गया है। दरअसल यह सारा मामला तब सामने आया जब कुछ लड़कियों ने राज्य की चाइल्ड हेल्पलाइन नंबर को फोन कर मदरसा प्रशासन के खिलाफ यौन शोषण किये जाने की शिकायत की।

जिसके बाद मलप्पुरम चाइल्डलाइन चीफ कॉर्डिनेटर अनवर कराक्कड़ ने मल्लपुरम पुलिस के साथ मदरसें पर छापा मारा। जहाँ इस 17 साल की बच्ची ने यह स्वीकार किया मौलवी रफीक उसका यौन शोषण कर रहा था। जिसके बाद पीड़ित बच्चियों को मेडिकल जांच के लिए भेजकर मौलवी को पॉस्को एक्ट में गिरफ्तार कर लिया गया।

मेडिकल जांच में पीड़ित बच्ची के यौन उत्पीड़न की पुष्टि हो चुकी है। बता दें, अवैध रूप से संचालित इस मदरसें मे पढ़ने वाली सभी बच्चियां गरीब घरों से है। जिनका मदद के नाम पर शोषण किया जा रहा था। कोलाथुर के एसएचओ ने इस मामले पर जानकारी देते हुए बताया कि पूरे प्रकरण की जाँच जारी है और साथ में यह भी पता लगाया जा रहा है कि रफीक ने कितने बच्चों का उत्पीड़न किया है।