दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने एनआरसी के बाद एक और विवादित बयान दिया है। केजरीवाल ने कहा कि यूपी बिहार के लोग 500 रुपए का टिकट लेकर दिल्ली आते हैं और यहां के अस्पतालों में मुफ्त में इलाज कराते हैं। आगामी विधानसभा चुनाव के लिए आम आदमी पार्टी ने 21 सितंबर से प्रचार के लिए जनसंवाद यात्रा कार्यक्रम शुरू कर दिया है।

दरअसल, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल दिल्ली के मंगोल पूरी इलाके में संजय गांधी अस्पताल की आधारशिला रखने पहुंचे थे। वहां उन्होंने जनता को संबोधित करते हुए ‘आप’ सरकार द्वारा स्वास्थ्य के क्षेत्र में किए गए कार्यों को बताया। अपने संबोधन में दिल्ली के मुख्यमंत्री ने राज्य सरकार द्वारा किए गये विकास कार्यों पर जनता की वाहवाही लूटने के लिए यूपी बिहार के लोगों का खूब मजाक उड़ाया। उनका कहना था कि बिहार का आदमी 500 रुपये का टिकट लेकर दिल्ली आता है और 5 लाख रुपये का ऑपरेशन फ्री में करवाकर वापस चला जाता है।

केजरीवाल ने कहा, “दिल्ली के अस्पतालों में भीड़ ज्यादा इसलिए हो रही है, क्योंकि यहां बाहर के लोग ज्यादा आते हैं।” आगे उन्होंने कहा, “हमने बॉर्डर के पास के अस्पतालों का सर्वे कराया तो पता चला कि 80 प्रतिशत लोग दिल्ली से बाहर के हैं। क्योंकि ऐसी व्ववस्था सिर्फ दिल्ली में है। इसलिए बिहार का एक आदमी 500 रुपए का टिकट लेकर दिल्ली आता है और 5 लाख रुपए का मुफ्त में इलाज करवाकर चला जाता है। दिल्ली पूरे देश के लोगों का इलाज कैसे करेगी? दिल्ली सरकार ने जितने अस्पताल बनवाए हैं, उतने दिल्ली के लोगों के इलाज के लिए काफी हैं।”

केजरीवाल के इस बयान के बाद राजनीतिक घमासान शुरू हो गया है। दिल्ली बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष व सांसद मनोज तिवारी ने कहा, “एक बार फिर उन्होंने (केजरीवाल) घृणा का भाव दिखाया है, अगर बिहार का व्यक्ति दिल्ली में इलाज करवा रहा है तो इससे अरविंद केजरीवाल का कलेजा क्यों फट रहा है? 5 लाख तक फ्री इलाज की व्यवस्था अरविंद केजरीवाल ने तो की नहीं, यह मोदीजी ने की है।” उन्होंने आगे कहा, “केजरीवाल हमारे राजनीतिक शत्रु हैं, लेकिन अब वह मुझसे निजी दुश्मनी निकाले रहे हैं। मुझसे दुश्मनी की सजा की अगर वो दूसरे राज्यों के लोगों को दे रहे हैं, तो ये उनकी बौखलाहट है। क्योंकि उन्हें आने वाले विधानसभा चुनाव में अपनी हार दिख रही है।”

‘आप’ के पूर्व विधायक व बीजेपी नेता कपिल मिश्रा ने भी केजरीवाल पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि केजरीवाल खुद जेब में 500 रुपए लेकर आए और दिल्ली के मुख्यमंत्री बन गए। अब उन्हें आयुष्मान भारत योजना से तकलीफ क्यों हो रही है? उन्होंने ट्वीट कर कहा, “दिल्ली सरकार के अस्पतालों में ना आयुष्मान भारत योजना लागू है और ना ही नये अस्पताल बनवाए गए। केंद्र सरकार के अस्पतालों में भी इलाज से केजरीवाल के पेट में दर्द क्यों?”

इससे पहले 26 सितंबर को अरविंद केजरीवाल ने कहा था कि अगर दिल्ली में एनआरसी लागू हुआ, तो दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष व सांसद मनोज तिवारी भी दिल्ली से बाहर जाएंगे। सीएम केजरीवाल के इस बयान को बीजेपी ने आड़े हाथों लेते हुए मुख्यमंत्री का ये बयान पूर्वांचल का अपमान करार दिया।