तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव (KCR) के आधिकारिक आवास प्रगति भवन के एक पालतू कुत्ते (Dog) की मौत होने पर हैदराबाद पुलिस ने एक पशु चिकित्सक (Veterinarian) के खिलाफ मामला दर्ज किया है। डॉक्टर पर लापरवाही बरतने का आरोप है।

खबर के मुताबिक, डॉक्टर रंजीत और एक निजी पशु चिकित्सालय के प्रभारी के खिलाफ शनिवार को बंजारा हिल्स थाने में यह मामला दर्ज किया गया। पुलिस ने उनके खिलाफ भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 429 और पशु क्रूरता रोकथाम अधिनियम की धारा 11 (4) के तहत मामला दर्ज किया है।

हस्की नामक 11 महीने का कुत्ता कथित तौर पर 11 सितंबर को डॉक्टर द्वारा सूई देने के बाद मर गया। प्रगति भवन में पालतू कुत्तों की देखभाल करने वाले आसिफ अली खान की शिकायत पर पुलिस ने मामला दर्ज करके जांच शुरू की। आरोप है कि डॉक्टर और चिकित्सालय के प्रभारी की लापरवाही के चलते कुत्ते की मौत हो गई।

दर्ज मामले की FIR कॉपी

बीजेपी ने बताया विडंबना

इधर, मामले पर भारतीय जनता पार्टी (BJP) की राज्य इकाई ने भी प्रतिक्रिया दी है और इस केस को एक विडंबना बताया है। तेलंगाना भाजपा के प्रवक्ता के. कृष्णा सागर राव ने कहा कि केसीआर के कुत्ते की प्रगति भवन में मौत होना और लापरवाही के लिए डॉक्टर पर मुकदमा दायर किया जाना एक विडंबना है।

भाजपा ने तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) की सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि कुत्ते की मौत पर डॉक्टर के खिलाफ कार्रवाई केसीआर सरकार की आपराधिक लापरवाही के कारण तेलंगाना में डेंगू से हुई मौतों पर एक क्रूर मजाक है। भाजपा ने कहा कि अगर सीएम को लोगों का भी इतना ही खयाल होता तो इतने गरीब बच्चे डेंगू से नहीं मर रहे होते।

भाजपा ने आरोप लगाते हुए कहा, ‘यह दुखद है कि राज्य में सैकड़ों गरीब बच्चों को समय पर चिकित्सा नहीं मिल रही है, जिसके कारण लगातार उनकी मौत हो रही है और टीआरएस सरकार सिर्फ मूकदर्शक बनी हुई है।’ भाजपा प्रवक्ता ने कहा कि यह केसीआर और उनके प्रशासन के उदासीनता को प्रदर्शित करता है।