कर्नाटक में सियासी हलचल तेज हो गई है। दो निर्दलीय विधायकों एच. नागेश और आर. नागेश ने सरकार से अपना समर्थन वापस ले लिया है। पिछले दिनों खबर आई थी कि कर्नाटक की कुमारस्वामी की सरकार को गिरने का खतरा है। कर्नाटक सरकार में मंत्री और कांग्रेस के नेता डीके शिवकुमार ने कल कहा था कि बीजेपी उनके विधायकों की खरीद फ़रोख़्त कर रही है। हालांकि, बीएस येदुरप्पा और केंद्रीय मंत्री सदानंद गौड़ा ने इस बात को नकार दिया था। येदुरप्पा ने कहा था कि हमें अपने विधायकों की चिंता है, इसलिए हमने अपने विधायकों को गुरुग्राम के एक रिजॉर्ट में ठहराया है।

 

बता दें कि कुछ दिन पहले कांग्रेस और निर्दलीय कुछ विधायकों ने मुंबई में बैठक की थी और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस से मुलाकात भी की थी। इसके बाद से ही कर्नाटक में सियासी उलटफेर के कयास लगाए जाने लगे और कहा जाने लगा कि विधायकों के समर्थन वापस लेने के बाद बीजेपी, कुमारस्वामी सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव ला सकती है और 17-18 जनवरी तक सरकार गिर सकती है। इस खबर की पुष्टि शिवकुमार ने भी की थी। लेकिन मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने इस खबर को सिरे से खारिज कर दिया था और कहा था कि मुंबई गये सभी विधायक उनके संपर्क में हैं।

दो निर्दलीय विधायकों के समर्थन वापस लेने के बाद बीजेपी ने भी दिमाग दौड़ाना शुरू कर दिया है। बीजेपी विधायकों ने कांग्रेस और निर्दलीय विधायकों से संपर्क साधना शुरू कर दिया है। इस्तीफा देने के बाद आर. शंकर ने कहा, “आज मकर संक्रांति है, इस दिन हम सरकार में बदलाव चाहते हैं। सरकार कुशल होनी चाहिए, इसलिए मैं आज (कर्नाटक सरकार को) अपना समर्थन वापस ले रहा हूं।”

एच. नागेश ने कहा, “गठबंधन सरकार को मेरा समर्थन अच्छा और स्थिर सरकार प्रदान करना था जो पूरी तरह से विफल रहा। गठबंधन के सहयोगियों के बीच कोई समझ नहीं है। इसलिए, मैंने बीजेपी के साथ स्थिर सरकार स्थापित करने का फैसला किया है।”

दो विधायकों के समर्थन वापस लेने के बाद उप-मुख्यमंत्री जी. परमेश्वर ने कहा, “हमें पता है कि बीजेपी हमारे विधायकों को पैसे और सत्ता के माध्यम से लुभा रही है, लेकिन सरकार को अस्थिर करने की उनकी कोशिश विफल हो जाएगी। हमारी सरकार स्थिर है।”

वहीं महाराष्ट्र के मंत्री राम शिंदे कहा कि अगले दो-तीन दिन में कर्नाटक में बीजेपी की सरकार बनेगी। कांग्रेस-जेडीएस की गठबंधन सरकार अपने विधायकों का सम्मान नहीं कर रही है। किसानों की कर्जमाफी भी नहीं हुई है।

Report By: @ShivangTiwari_