सहारनपुर की शहनाज दूसरे धर्म के लड़के से शादी करना चाहती थी, लेकिन परिवार वाले इसके लिए तैयार नही थे और शहनाज की मर्जी के बगैर 10 फरवरी को उनकी शादी कहीं और करवा रहे थे। ऐसे में शादी से सिर्फ चार दिन पहले शहनाज घर छोड़कर, दिल्ली आ गयी, यहाँ उनका कोई जानने वाला नही था ऐसे में शहनाज ने शेल्टर होम का सहारा लिया। किसी भी लड़की के लिए शेल्टर होम में रहना आसान नहीं होता है। बावजूद इसके उन्होंने यह कड़ा कदम उठाया और उनकी इस हिम्मत की वजह से ही उनकी शादी वहाँ हुई, जहाँ वो करना चाहती थी।

27 मई को शहनाज ने अपनी मर्जी से गौरव नाम के लड़के से शादी की है। शहनाज ने अपने परिवार के खिलाफ जंग लड़ने के साथ-साथ गौरव को भी इस बात के लिए राजी किया कि शादी को धार्मिक रीति-रिवाज की जगह कोर्ट में रजिस्टर किया जाएगा। अब शहनाज ने गौरव से शादी करने के बाद 29 मई को शेल्टर होम भी छोड़ दिया और अपने पति के साथ नई ज़िंदगी की शुरुआत करने के लिए निकल पड़ी है।

हालांकि इसके लिए शहनाज ने बहुत संघर्ष किया, नियम के मुताबिक दिल्ली में शादी रजिस्टर करवाने के लिए यहां कम से कम एक महीने रुकना पड़ता है। इसमें शेल्टर होम ने शहनाज का काफी साथ दिया। जंगपुरा के इस शेल्टर होम का नाम शक्ति शालिनी है। कपल के पास दिल्ली का स्थाई पता नहीं था। ऐसे में एसडीएम ने आगे की कार्यवाही के लिए शेल्टर होम को ही उनका घर मान लिया।

पुलिस और अदालत के सामने आत्मविश्वास और बेबाकी से अपनी बात रखने के बाद शहनाज ने टाइम्स ऑफ इंडिया से बात करते हुए बताया कि उन्होंने और उनके पति ने एक-दूसरे के धर्म को सम्मान के साथ स्वीकार करने का फैसला किया था। शहनाज बताती है कि उन्होंने बारहवीं तक की पढ़ाई की है। वो आगे ग्रेजुएशन की पढ़ाई करके नौकरी करना चाहती है। शहनाज के पति गौरव एक कपड़ा फैक्ट्री में काम करते हैं। शक्ति शालिनी की सेक्रेट्री भारती शर्मा ने इस मामले में शामिल चुनौतियों और संवेदनाओं को देखते हुए इसे बड़ी सफलता बताया है। साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि शक्ति शालिनी काउंसलर शहनाज के साथ नियमित संपर्क में रहेंगी। शहनाज-गौरव के किस्से ने काफी लोगों को आशा की नई राह दिखाई है।

1 COMMENT

  1. Bewakuf hai ku ki she should know what is going on in these day’s with hindu girls. Love jihaad is on the popular thing in this day’s for muslim, they always try to do this with hindu girls. be aware because they are using to hindu girls silently. Think about your family first to do this.