पाकिस्तान में एक बार फिर भारतीय राजनयिकों का उत्पीड़न हुआ है। पाकिस्तानी सुरक्षा अधिकारियों ने इफ्तार के आयोजन के दौरान भारतीय राजनयिकों का उत्पीड़न किया। इफ्तार के दौरान इस्लामाबाद स्थित भारतीय दूतावास में जिन मेहमानों ने हिस्सा लिया उनके साथ पाकिस्तानी सुरक्षा अधिकारियों द्वारा मारपीट की गई और इफ्तार का आयोजन नहीं करने दिया गया।

खबरो के अनुसार, भारतीय उच्चायोग के अधिकारियों ने इस्लामाबाद के सेरेना होटल में इफ्तार पार्टी आयोजित की थी। इसमें शामिल होने के लिए कई मेहमानों को न्यौता दिया गया था। इफ्तार पार्टी शुरू होने से पहले जब मेहमान यहां आने लगे तो पाकिस्तानी सुरक्षा एजेंसियों ने घिनौनी हरकत की। रिपोर्ट के मुताबिक कई मेहमानों के साथ धक्का-मुक्की की गई, कई लोगों की कई बार जांच की गई तो कई लोगों को अंदर ही नहीं आने दिया गया। इस दौरान मेहमानों, भारतीय अधिकारियों और पाकिस्तान के सुरक्षा अधिकारियों के बीच गरमागरम बहस हुई।

पाकिस्तानी अधिकारियों की इस हरकत पर पाकिस्तान में भारत के उच्चायुक्त अजय बिसारिया ने खेद भी जताया। इसको लेकर एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रहा है।

इस वीडियो में अजय बिसारिया कह रहे हैं, ‘मैं उन लोगों का शुक्रिया करता हूं जो यहां आए हैं। खासतौर पर उनका जो कराची और लाहौर से आए हैं। साथ ही माफी भी मांगना चाहूंगा क्योंकि कई लोगों को यहां अंदर आने में तकलीफ हुई और कई दोस्त यहां ही नहीं आ पाए। इफ्तार का सिलसिला कई सालों से यहां जारी है।’

बहरहाल, यह पहला मौका नहीं है जब पाकिस्तान ने इस तरह की हरकत की हो। इससे पहले भी पाकिस्तान ने पिछले महीने मई माह के दौरान इसी तरह की हरकत करते हुए भारतीय राजनयिकों का उत्पीड़न किया था। तब इस्लामाबाद के सच्चा सौदा गुरुद्वारे में 2 भारतीय राजनयिक लगभग 15 मिनट तक बंद रहे थे। साथ ही भारत ने राजनयिकों की सुरक्षा को लेकर भी अपनी चिंता जाहिर की।

इसी साल अप्रैल में पाकिस्तान में भारतीय राजनयिक और दूतावास के अधिकारियों को सिख श्रद्धालुओं से मिलने से रोक दिया गया था। भारतीय विदेश मंत्रालय ने इस पर कड़ा विरोध दर्ज कराया इसके बाद मामला से काफी गरमा गया था। भारत ने पाक की इस हरकत पर आपत्ति भी जताई थी। तब मंत्रालय ने कहा था, ‘भारत ने तीर्थयात्रा पर गए श्रद्धालुओं से भारतीय राजनयिकों और उच्चायोग की टीमों को नहीं मिलने देने पर कड़ा एतराज प्रकट किया है।’

इसके अलावा, राजनयिकों को परेशान करने के लिए उनके घरों की बिजली काट देने का मामला भी सामने आया था। बता दें कि भारत और पाकिस्तान के बीच काफी तनाव बना रहता है। हाल ही में जब 30 मई को नरेंद्र मोदी ने पीएम पद की शपथ ली थी तो पाकिस्तान को न्यौता नहीं दिया गया था। दोनों देशों के बीच राजनयिक स्तर पर बातचीत भी काफी लंबे वक्त से बंद है। वहीं इस साल हुए पुलवामा हमले के बाद दोनों देशों के बीच तनाव और भी ज्यादा बढ़ गया था।