पुलवामा आतंकी हमले के बाद भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान के खिलाफ बेहद कड़ी कारवाई की है। आज सुबह 3:30 बजे भारतीय वायुसेना के 12 मिराज-2000 विमानों ने पाक अधिकृत कश्मीर में प्रवेश कर बालाकोट, मुजफ्फराबाद और चकोटी सेक्टर में जैश के आतंकी ठिकानों को पूरी तरह तहश नहश कर दिया है। बता दें कि पुलवामा हमले के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने एक सार्वजनिक सभा में कहा था कि सेना को पूरी छूट दी गई है। इस बमबारी में भारतीय वायुसेना को कोई क्षति नहीं हुई है।

जानकारी के मुताबिक भारतीय वायुसेना ने 1000 किलो बम गिराए हैं। हालांकि, अभी भारतीय वायुसेना की तरफ से इस बारे में आधिकारिक कोई बयान नहीं आया है, लेकिन पाकिस्तानी सेना के आधिकारिक प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ गफ्फूर ने आज सुबह ट्वीट कर इस बात की पुष्टि की कि भारतीय वायुसेना के विमानों ने नियंत्रण रेखा पार किया था। आमतौर पर भारत की तरफ से की गई कारवाई को पाकिस्तान स्वीकार नहीं करता है। 2016 में उरी हमले के बाद सर्जिकल स्ट्राइक में पाकितानी सेना के 40 सैनिकों के मारे जाने के बाद भी पाकिस्तान ने इससे इंकार किया था। लेकिन यहां सबसे पहले पाकिस्तान की तरफ से इस बात को स्वीकार किया गया है।

आपको बता दें कि बालाकोट जैश ए मोहम्मद का गढ़ है। पाकिस्तान के बहावलपुर के बाद बालाकोट इस आतंकी संगठन का दूसरा सबसे बड़ा मुख्यालय है। यह इलाका नियंत्रण रेखा के 30 से 35 किलोमीटर अंदर है, जहां बमबारी की गई है। अगर यह इलाका 5-6 किलोमीटर अंदर होता तो वायुसेना का प्रयोग नहीं किया गया होता, क्योंकि वायुसेना के विमानों से जो बमबारी की जाती है, उससे अपने क्षेत्रों में भी नुकसान होने के अंदेशा रहता है। आपको बता दें कि बालाकोट पीओके में नहीं बल्कि पाकिस्तान पड़ता है और यहां जैश का कंट्रोल रूम अल्फा-3 पूरी तरह तबाह हो गया है। थोड़ी देर बाद भारतीय वायुसेना और थलसेना की संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस होगी, जिसमे विस्तार से जानकारी दी जाएगी कि पाकिस्तान को कितना नुकसान हुआ है।

Leave a Reply