गुरुग्राम में हरिद्वार के एक इलेक्ट्रॉनिक्स कारोबारी के बेटे के अपहरण की धमकी देकर एक करोड़ की रंगदारी मांगने का मामला सामने आया है। घटना आठ जुलाई की है। आरोपी नर्स फिजा खान और उसके साथी मुस्तकीम खान को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। नर्स का साथी गाजियाबाद में जूस की रेहड़ी लगाता है।

पुलिस के मुताबिक, मामला सोमवार का है। सेक्टर-14 में रहने वाले इलेक्ट्रॉनिक्स कारोबारी सुनील पाहवा का हरिद्वार में इलेक्ट्रॉनिक्स सामान का कारोबार है। उन्हें आठ जुलाई की देर शाम किसी फिजा खान नामक लड़की का फोन आया था। इसमें फिजा ने कारोबारी को धमकाते हुए कहा था कि वह एक करोड़ की रकम दे दे, अन्यथा उसके बेटे का अपहरण कर लिया जाएगा। इस फोन कॉल से कारोबारी पहले तो डर गया और आरोपियों से मोल-भाव करने लगा। आखिर में 75 लाख रुपये पर डील तय हो गई। इसी दौरान कारोबारी ने अपने किसी जानकार की सलाह पर मामले की जानकारी पुलिस को दे दी।

कारोबारी से रंगदारी मांगने की सूचना मिलने पर सेक्टर-14 थाना पुलिस ने बुधवार रात को मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी। इसमें पुलिस की अपराध शाखा सेक्टर-17 की टीम को भी जांच लगा दिया गया। साइबर सेल की मदद से नंबरों के आधार पर जानकारी जुटाकर कारोबारी के घर के आसपास सादे कपड़ों में पुलिसकर्मियों की तैनाती कर दी गई। तकनीकी सर्विलांस और अपने सूत्रों की मदद से बृहस्पतिवार सुबह इफको चौक से कॉल करने वाले युवक को दबोचा।

फिजा खान उर्फ नसरीन ने रचा षडयंत्र
पुलिस की पूछताछ में गिरफ्तार आरोपी की पहचान संभल, उत्तर प्रदेश के रहने वाले मुस्तकिम खान के रूप में हुई है। उसने बताया है कि वह दिल्ली के सीमापुरी में रहता है और गाजियाबाद में जूस की रेहड़ी लगाता है। उसने बताया कि इस वारदात के लिए मूल रूप से मथुरा की रहने वाली फिजा खान उर्फ नसरीन ने षड़यंत्र रचा था। वह शीतला कॉलोनी में रहती है और इस समय कारोबारी के बेटे के अपहरण के लिए रेकी करने सेक्टर-14 मार्केट गई है। इस सूचना पर पुलिस ने सेक्टर-14 मार्केट से फिजा खान को भी गिरफ्तार कर लिया। आरोपी फिजा खान एसजीटी विश्वविद्यालय से नर्सिंग का कोर्स करने के बाद अपने घर से ही जरूरतमंद लोगों को नर्सिंग की सेवा दे रही थी। पुलिस ने दोनों आरोपियों को अदालत में पेश कर जेल भेज दिया है।

अगस्त में मां की देखभाल के लिए रही थी
गुरुग्राम पुलिस प्रवक्ता के मुताबिक आरोपी युवती ने एसजीटी विश्वविद्यालय से नर्सिंग का कोर्स किया है। बीते साल अगस्त में कारोबारी के घर पर उसकी बुजुर्ग मां की तबियत खराब होने पर देखभाल के लिए उसने एक महीने तक काम किया था। इसके चलते उसे कारोबारी के पारिवारिक जानकारी पूरी थी। कारोबारी के ठाठ बाठ देखकर युवती की नियत खराब हो गई और मोटी रकम के लिए कारोबारी से फिरौती की योजना तैयार की।

Leave a Reply