चुनाव आयोग ने धर्म के आधार पर वोट मांगने के मामले में बसपा प्रमुख मायावती को बड़ा झटका दिया है। इसके अलावा उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री को भी चुनाव आयोग ने नोटिस भेजकर बड़ा झटका दिया है। आयोग ने मायावती पर 48 घंटे, तो दूसरी तरफ मुख्यमंत्री आदित्यनाथ पर 72 घंटे की रोक लगाई है। आयोग का यह आदेश मंगलवार (16 अप्रैल) की सुबह 6 बजे से लागू होगा।

बता दें कि पिछले दिनों मायावती ने सहारनपुर के देवबंद में मुस्लिमों से महागठबंधन को वोट करने की अपील की थी और आदित्यनाथ ने बजरंग बली और अली के नाम पर वोट मांगा था। इसके बाद आयोग ने इन दोनों नेताओं को नोटिस भेजा था, लेकिन कोई जवाब नहीं दिया गया। जिसके बाद आज सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग को कड़ी फटकार लगाते हुए पूछा कि आखिर धर्म के नाम पर वोट मांगने वाले नेताओं के खिलाफ अब तक कारवाई क्यों नहीं हुई? कोर्ट ने मंगलवार तक आयोग से जवाब मांगा था।

चुनाव आयोग के इस आदेश में सिर्फ रैली ही नहीं, रैली के अलावा सार्वजनिक बैठक और चुनाव से जुड़ी हर गतिविधियों पर रोक लगा दी है। आयोग का यह आदेश उन सभी नेताओं के लिए बहुत बड़ा झटका है, जो चुनाव में वोटों का ध्रुवीकरण करते हैं। इसके अलावा यह आदेश उन विपक्षी नेताओं के लिए भी एक सबक है, जो चुनाव आयोग पर पक्षपात का आरोप लगाते रहते हैं। क्योंकि सीएम योगी पर 72 घंटे का प्रतिबंध लगाया गया है।

Leave a Reply