अपने विवादित और हिन्दू विरोधी (Anti Hindu) बयानों के लिए चर्चित मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) ने एक बार फिर ऐसा बयान दिया है जिस पर देशभर में राजनीति गरमा सकती है। दिग्विजय सिंह ने मंगलवार को कहा कि भगवा वस्‍त्र पहनकर बलात्‍कार हो रहे हैं और मंदिरों में बलात्‍कार हो रहे हैं।

मंदिर में होते है बलात्कार

मध्‍य प्रदेश की राजधानी भोपाल में साधुओं को संबोधित करते हुए कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने कहा, ‘व्‍यक्ति अपना परिवार छोड़कर साधु बनता है। धर्म का आचरण करते हुए आध्‍यात्‍म की ओर मुड़ता है। लेकिन आज लोग भगवा वस्‍त्र पहनकर लोग चूरन बेच रहे हैं। भगवा वस्‍त्र पहनकर बलात्‍कार हो रहे हैं, मंदिरों में बलात्‍कार हो रहे हैं। क्‍या यह हमारा धर्म है? हमारे सनातन धर्म को जिन्‍होंने बदनाम किया है, उन्‍हें भगवान भी माफ नहीं करेगा।’

जय श्री राम सियासी नारा

दिग्विजय सिंह यही नही रुके उन्होंने आगे कहा, बिना बीजेपी का नाम लिए कहा कि ‘जय श्रीराम’ नारे पर एक पार्टी ने कब्‍जा कर लिया है, इसलिए हमें ‘जय सियाराम’ बोलना चाहिए। उन्‍होंने यह भी कहा कि एक पार्टी के लोग मंदिरों और मठों में कब्‍जा कर रहे हैं। हमें जय सिया राम कहना चाहिए हम जय श्रीराम में सीता मां को क्यों भूल जाते हैं।

उन्होंने कमलनाथ सरकार की तारीफ करते हुए बड़े ‘कुत्सित भाव’ से कहा कि कमलनाथ जी को मैं बधाई देता हूं कि उन्होंने आनंद विभाग को समाप्त कर आध्यात्म विभाग बनाया। क्योंकि ‘आनंद’ के कई मतलब होते हैं। दिग्विजय सिंह ने कहा- धर्म का उपयोग राजनीति में नहीं होना चाहिए। भगवान राम सबके हैं। दिग्विजय ने कहा- हर धर्म हमें अच्छा बनने की शिक्षा देता है।

हिन्दू पाकिस्तान के जासूस है

बता दें कि पिछले दिनों दिग्विजय सिंह ने कहा था कि पाकिस्‍तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई के लिए मुसलमानों से ज्‍यादा गैर-मुसलमान जासूसी कर रहे है। दिग्विजय सिंह ने मध्‍य प्रदेश के भिंड में मीडिया से बातचीत में कहा था कि मुसलमानों से ज्यादा हिन्दू पाकिस्तान के लिए जासूसी कर रहे है। उन्होंने कहा, ‘जितने भी पाकिस्तान के लिए जासूसी करते पाए गए हैं, वे लोग बजरंग दल, बीजेपी और आईएसआई से पैसा ले रहे हैं। आईएसआई के लिए जासूसी मुसलमान कम कर रहे हैं और गैर-मुसलमान ज्‍यादा कर रहे हैं। इसको भी समझ लीजिए।’

बीजेपी पर बोला हमला

उन्होंने बीजेपी पर राष्ट्रवाद की झूठी रट लगाने का आरोप लगाते हुए कहा, ‘हमारी विचारधारा की लड़ाई बीजेपी और राष्‍ट्रीय स्‍वयंसेवक संघ से है जिन्‍होंने आजाद भारत के संघर्ष में कहीं भाग नहीं लिया और हमें राष्‍ट्रीयता का सबक सीखाना चाहते हैं।’ दिग्विजिय ने सवाल किया, ‘1947 से पहले ये लोग कहां थे? जब इंदिरा ने पाकिस्‍तान के दो टुकड़े कर दिए, तब ये लोग कहां थे? इसलिए हमको सबक देने की जरूरत नहीं है।’

बीजेपी ने किया जवाबी हमला

दिग्विजय सिंह के इस बयान पर भाजपा ने हमला बोला है। भाजपा प्रवक्ता रजनीश अग्रवाल ने कहा- दिग्विजय सिंह जी कौन सी मिशनरीज के एजेंडे पर खेल-खेल रहे हैं ? हिंदुओं और हिंदुओं के संतो को अपमानित कर रहे हैं। अगर कोई अपराधी या अपराध का आरोपी है तो उससे पूरा भगवाधारी संदिग्ध नहीं हो जाते। क्या मौलवियों और पादरियों के वेश भूषा बारे में भी अब यही विचार प्रकट करेंगे?