पेट्रोल डीजल के बढ़े दामों को लेकर कांग्रेस पार्टी पिछले एक महीने से देश के कई हिस्सों में विरोध प्रदर्शन कर रही है। मोदी सरकार पर इस मुद्दे को लेकर असंवेदनशील होने का आरोप लगा रही थी। महाराष्ट्र पंजाब से लेकर कर्नाटक तक कांग्रेस ने आंदोलन किया, राहुल गांधी स्वयं इन आंदोलनों में शामिल हुए।

जब कुछ दिन पूर्व प्रधान मंत्री ने देश के युवाओं को फिटनेस के प्रति जागरूक करने के लिए फिटनेस चेलेंज की शुरुआत की और क्रिकेटर विराट कोहली को चेलेंज किया तब राहुल गांधी ने इस गैर राजनीतिक मुद्दे में भी राजनीति करते हुए पीएम मोदी को fuel चेलेंज दे दिया। चेतावनी दी गयी कि पेट्रोल डीजल के दाम अगर कम नहीं हुए तो कांग्रेस पार्टी देश व्यापी आंदोलन करेगी। आम जनता को एक पल के लिए लगा कि राहुल गांधी उनसे जुड़े मुद्दे को गंभीरता से उठा रहे है, पर कल जो हुआ उसने कांग्रेस पार्टी की कथनी और करनी के बीच के अंतर को उजागर कर दिया।

कांग्रेस के समर्थन से कर्नाटक की नवनिर्मित कुमारस्वामी सरकार का कल पहला बजट था। बजट भाषण में स्वयं मुख्यमंत्री HD कुमारस्वामी ने ऐलान किया कि पेट्रोल और डीजल पर लगाये गए टैक्स में 2 % कई वृद्धि की जा रही है जिससे दोनो के ही दाम बढ़ेंगे। जिसकी वजह से पेट्रोल Rs 1.14/लीटर और डीजल Rs 1.12/लीटर तक दाम बढ़ेंगे।

कांग्रेस पार्टी इस मुद्दे पर अपनी गर्दन बचाने के लिए यह भी नहीं कह सकती कि ये राजनैतिक मजबूरी है और ये फैसला कुमार स्वामी ने लिया है । कुमार स्वामी ने मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने से पहले ही ये कह दिया था कि वो कांग्रेस की कृपा से मुख्यमंत्री बने है और उन हर फैसला लेने से पूर्व कांग्रेस की स्वीकृति और अनुमति लेनी होगी। उन्होंने ये भी कहा था कि उनकी सरकार कांग्रेस के रहमो करम पर है।

कुमारस्वामी की बात में काफी हद तक सच्चाई भी है। एक 38 विधायको की पार्टी का नेता बिना 76 विधायको की पार्टी से पूछा बिना भला कोई फैसला ले सकता है ?

जैसे ही कर्नाटक सरकार द्वारा दाम बढ़ाने को लेकर लोगो ने विरोध किया, सरकार के समर्थन में आ उतरी bicon कम्पनी की मालकिन किरण मजूमदार शा। उन्होंने ट्वीट कर के बढ़ोतरी की डिफेंड करने का प्रयास किया पर तुरन्त धवल पटेल ने उन्हें आईना दिखा दिया। बात गलत साबित होते ही मैडम ने गोल पोस्ट चेंज करने का प्रयास किया और कहा कि बाकी राज्यो के बढ़े दामो पर वो लोग क्यों कुछ नहीं बोलते।

https://twitter.com/dhaval241086/status/1014866185593212930?s=19

https://twitter.com/dhaval241086/status/1015118726256119809?s=19

ऐसा नहीं है कि बीजपी शासित राज्यो में पेट्रोल डीजल के दाम कम है, पर सवाल उस डबल स्टैण्डर्ड का है जहां आप महाराष्ट्र और हरियाणा में तो हो हल्ला करते है क्योंकि भाजपा सरकार है पर कर्नाटक और पंजाब में चुप्पी साध लेते है। जिस राज्य की जनता ने आपकी सरकार बना दी उसी की आवाज़ आप नही उठाते।