बरेली से बीजेपी विधायक राजेश मिश्रा की बेटी साक्षी मिश्रा और अजितेश कुमार की लव मैरिज में एक नया एंगल आया है। ऐसी तस्वीरें सामने आई हैं, जिससे साबित होता है कि अजितेश कुमार की सगाई भोपाल की एक लड़की से पहले ही हो चुकी है। शादी के लिए 9 दिसंबर की तारीख तय थी, शादी की सारी तैयारियां भी हो गई थी।

मिली जानकारी के मुताबिक भोपाल में एक होटल में धूमधाम से सगाई समारोह हुआ था। यह सगाई अजितेश की रजामंदी से ही हुई थी। अब अजितेश की शादी के बाद भोपाल वाली लड़की के बाप का कहना है उसकी बेटी की काफी बदनामी इसकी भरपाई कौन करेगा।

ज्यादा दहेज की मांग को लेकर टूटी सगाई

लड़की के पिता के मुताबिक, लड़के के पक्ष वालों की तरफ से अत्यधिक दहेज की मांग के बाद सगाई तोड़ दी गई थी। परिवार ने अपने दावे को पुष्ट करने के लिए सगाई समारोह की तस्वीरें भी जारी की हैं।

लड़की के पिता ने बताया, सगाई में सात लाख से ज्यादा रकम उन्होंने खर्च की थी, लड़की सबसे छोटी है। साथ में बहुत खूबसूरत और पढ़ी-लिखी है। यही वजह है कि उसके पिता और परिवार वालों ने मेरी छोटी लड़की को ही पसंद किया था और जल्द से जल्द सगाई करने की बात भी कही थी इसीलिए आनन-फानन में भोपाल के एक होटल से धूमधाम से सगाई कर दी गई।

कर्ज लेकर रिटायर्ड पिता ने की थी सगाई

सगाई टूटने वाली लड़की के पिता हाल ही में सरकारी नौकरी से रिटायर हुए है। उनकी पांच बेटियां और एक बेटा है। उन्होंने बताया कि सगाई में इतना अधिक खर्च करना रिटायरमेंट के बाद मुश्किलों भरा रहा क्योंकि उन्होंने उधार लेकर सगाई में खर्च किया था। लड़की के पिता ने कहा कि सगाई में लाखों रुपए खर्च किए गए हैं, उसकी भरपाई कौन करेगा? समाज में सगाई टूटने से बदनामी भी काफी हुई है अब मेरी बेटी से कौन शादी करेगा।

मन्दिर के पुजारी ने बताया मैरिज सर्टीफिकेट फर्जी

वही दूसरी तरफ, साक्षी मिश्रा और अजितेश के मैरिज सर्टिफिकेट को मन्दिर के पुजारी ने फर्जी बताया है। जिस मंदिर में दोनों ने शादी की थी वहीं के महंत परशुराम सिंह ने प्रमाण-पत्र को फर्जी बताया है। राम जानकी मंदिर के महंत परशुराम सिंह ने इस विवाह की जानकारी से ही इनकार किया और कहा मैरिज सर्टिफिकेट फर्जी है।

मंदिर के महंत परशुराम सिंह ने बताया कि उनके मंदिर में न शादी होती है और न ही ऐसा कोई सर्टिफिकेट जारी किया जाता है। उन्होंने आचार्य विश्वपति जी शुक्ल के बारे में जानकारी से साफ इनकार किया। उन्होंने कहा कि इस मंदिर का नाम बदनाम किया जा रहा है, और इस बारे में वह कानूनी मदद लेंगे।

उधर जब राजेश मिश्रा से पूछा गया, क्योंकि आपकी बेटी ने एक दलित लड़के से शादी कर ली है इसलिए आप इस शादी का विरोध कर रहे हैं? इसका जवाब देते हुए राजेश मिश्रा ने कहा कि लड़का (अजितेश) मेरे घर पर खाना खाता रहा है, अब ये लोग सहानुभूति बटोर रहे हैं। मेरी बेटी अगर किसी के इशारे पर कर रही है तो मुझे कुछ नहीं कहना। मेरा परिवार आत्महत्या करने के लिए कह रहा है, हम लोगों को कहीं मुंह दिखाने लायक नहीं छोड़ा। इसके साथ राजेश मिश्रा ने कहा कि विपक्षी लोग इसके पीछे हैं, मेरी छवि और राजनीति खराब करने के लिए ये सब किया जा रहा है।

2 COMMENTS