बेगुसराय: ट्यूशन टीचर मुर्तजा ने 7 साल की मासूम दलित बच्ची को बनाया हवस का शिकार

- Advertisement -

बिहार के बेगूसराय में एक ट्यूशन टीचर द्वारा 6 वर्षीय दलित बच्ची के साथ बलात्कार करने का मामला सामने आया है। आरोपी का नाम मोहम्मद मुर्तुजा है और उसके पिता का नाम इलियास है। इस बात का पता परिवार को तब चला जब पीड़ित बच्ची ने ट्यूशन जाने से मना कर दिया। उसके बाद अपनी माँ के पूछने पर उसने असली वजह बताई। इसकी शिकायत घटना के 7 दिन बाद दर्ज कराई गई।

ये घटना खोदावंदपुर की है। बच्ची ने अपनी माँ को बताया था कि उसके पेट में दर्द रहता है और फिर उसने शिक्षक के कुकृत्यों के बारे में बताया। बच्ची कुछ दिनों से उसके पास पढ़ने जाने में आनाकानी कर रही थी। परिवार द्वारा सख्ती करने के बाद उसने सारी बात बताई। बच्ची ने अपनी माँ को बताया कि शिक्षक मुर्तुजा होमवर्क कराने के बहाने कमरे में ले जाता था और वहाँ उसका यौन शोषण करता था। मामला दो समुदायों के बीच का होने के कारण क्षेत्र में तनाव व्याप्त है।

- Advertisement -

पीड़िता की माँ की शिकायत के बाद गाँव में पंचायत भी बैठी। पंचायत में न्याय नहीं मिलने पर आक्रोशित परिजन थाना पहुँचे। पीड़ित बच्ची को मेडिकल टेस्ट के लिए सदर अस्पताल भेजा गया है। पुलिस अभी तक आरोपित को गिरफ़्तार नहीं कर पाई है, इसीलिए लोग आक्रोशित हैं। पीड़िता के चाचा ने स्वराज्य की पत्रकार स्वाति गोयल शर्मा को बताया कि मुर्तुजा इससे पहले भी कई छात्रों का यौन शोषण कर चुका है लेकिन अपनी इज्जत के कारण पीड़ित परिवारों ने मामले को दबा दिया।

वही इस मामले में एसपी का कहना है कि इतने दिन बाद शिकायत आने से कुछ अहम सबूतों के गायब होने का ख़तरा रहता है। पुलिस द्वारा सबूत मिटने की आशंका से इस बात को बल मिलता है कि दोषी सज़ा से ही बच जाए। घटना का पता चलने पर बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने पीड़ित परिवार से मुलाक़ात कर हरसंभव मदद का आश्वासन दिया। बजरंग दल ने इस घटना के सम्बन्ध में स्पीडी ट्रायल के माध्यम से दोषी को सज़ा देने की माँग की।

वहीं आरोपी टयूशन टीचर अपने ख़िलाफ़ मामला दर्ज होते ही  परिवार सहित घर छोड़ कर फरार हो गया है। थानाध्यक्ष दिनेश कुमार के नेतृत्व में पुलिस आरोपी की गिरफ़्तारी के लिए छापेमारी कर रही है।

- Advertisement -
error: Content is protected !!