बिहार के बेतिया जिले के नरकटियागंज में मुहर्रम जुलूस के दौरान शरारती तत्वों द्वारा ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ और भारत विरोधी नारे लगाए जाने के बाद दो समुदाय आमने-सामने आ गए। देखते ही देखते पथराव शुरू हो गया इस पत्थरबाजी में आधा दर्जन से अधिक लोग चोटिल हुए है। हुड़दंगियों ने कई वाहनों को क्षतिग्रस्त कर दिया है। दुकानों के फाटक, काउंटर आदि की तोड़फोड़ किए जाने की सूचना मिली है।

खबर के मुताबिक, जब मुहर्रम जुलूस आर्य समाज रोड से होकर मस्जिद की ओर जा रहा था। तभी जुलूस में शामिल शरारती तत्वों ने पाकिस्तान जिंदाबाद और भारत विरोधी नारे लगाने लगे, जिसकी वजह से दोनों समुदाय के लोग आमने-सामने आ गए। इन नारों से आक्रोशित समुदाय ने जब विरोध किया तो  उग्र मुस्लिमों ने पत्थरबाजी की, जिसके बाद दोनों समुदायों के बीच संघर्ष का माहौल पैदा हो गया।

हिंदुस्तान का स्थानीय संस्करण 11 सितम्बर 2019

(यह पेज पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे)

देखते ही देखते वहाँ पत्थरबाजी शुरू हो गयी। इसके बीच पुलिस ने मोर्चा संभाला, लेकिन उससे पहले दुकानों से लेकर सड़क तक तोड़फोड़ की जा चुकी थी। झड़प के दौरान सड़क पर पड़े साइकिलों तक को नहीं बख्शा गया और जम कर तोड़फोड़ मचाई गई।

सिर्फ यही नही, बेतिया के मनुआपुल थाना के कर्बला मैदान में मंगलवार देर शाम दो ताजिया जुलूस के आपसी विवाद में हुई मारपीट में कई लोग घायल हो गए। इसके बाद उपद्रवी तत्वों ने 18 घरों में आग लगा दी। वहीं, मनुआपुल थाने की जीप, 4 बाइक को फूंक डाला गया।

घटना की सूचना के बाद डीआईजी ललन मोहन प्रसाद, डीएम डाॅ. निलेश रामचंद्र देवरे, एसपी जयंतकांत सहित कई थानों की पुलिस घटनास्थल पर पहुंची। उपद्रवियों द्वारा जलाए गए घरों के लोगों ने बताया कि सुनियोजित तरीके से घटना काे अंजाम दिया गया है। उपद्रवी ट्रक में भरकर लुकार लाए थे। नरकटियागंज में भी जुलूस के दौरान उपद्रवियों ने पत्थर बरसाए।

इस मामले पर चंपारण रेंज के डीआईजी ललन मोहन प्रसाद ने कहा है कि, उपद्रवी तत्वों ने कुछ झोपड़ियों में आग लगा दी है। कुछ वाहनों को क्षतिग्रस्त किया है। स्थिति को नियंत्रित कर दिया गया है। उपद्रवियों की पहचान की जा रही है। किसी भी सूरत में उन्हें बख्शा नहीं जाएगा।