बिहार के भागलपुर में अकबर थाना क्षेत्र के सिमराहा गाँव में ताजिया जुलूस में शामिल लोगों ने CISF जवान से मारपीट करके उनपर चाकू से वार कर दिया। जवान की सिर्फ इतनी गलती थी कि वह जहाँ से ये जुलूस गुजर रहा था, उनके सामने बाइक लेकर पड़ गए। जिसके बाद जुलूस में शामिल लोगो ने उनकी बाइक रोककर मारपीट शुरू कर दी।

घटना के बारे में बताया जा रहा है कि सिमराहा के लोगों ने ताजिया का जुलूस निकाला था। इसी दौरान चिड़ैया गांव के सीआइएसएफ के जवान बाइक से स्टेशन जा रहे थे। ताजिया जुलूस में शामिल लोगों ने उनकी बाइक रोक दी। जवान आगे बढ़ने पर अड़ गये।

इसी दौरान ताजिया जुलूस में शामिल लोगों ने उन पर हमला कर दिया. मारपीट के दौरान एक युवक ने चाकू से वार कर दिया, जिससे वह गंभीर रूप से जख्मी हो गये। उग्र भीड़ से किसी तरह जवान ने बाइक छोड़ कर अपनी जान बचायी।

जख्मी जवान ने गांव पहुंच ग्रामीण व परिजनों को घटना की जानकारी दी। जख्मी जवान की हालत को देखकर आक्रोशित ग्रामीण सड़क पर पहुंच गये। आक्रोशित लोगों ने सड़क जाम कर ताजिया जुलूस को रोक दिया। इससे जुलूस के लोग पथराव करने लगे।

घटना की जानकारी पर स्थानीय पुलिस जब मौके पर पहुंची तो उन पर भी हमला हो गया। इस पथराव में पांच पुलिसकर्मी भी गंभीर रूप से जख्मी हुए। घटना के विरोध में दोनों पक्षों के लोगों ने एनएच 80 को जाम कर दिया। इस दौरान बीच-बीच में दोनों पक्षों की ओर से पथराव होते रहा। पथराव के बाद स्थानीय पुलिस दुबक गयी।

इसके बाद पूरे मामले की जानकारी जिले के वरीय अधिकारियों को दिया गया। घटना के करीब तीन घंटे के बाद एसएसपी, डीएम सहित कई वरीय अधिकारी पहुंचे। जिले से अतिरिक्त पुलिस बल भी भेजा गया। आसपास के थानों को मौके पर बुलाया गया।

जिले के वरिष्ठ अधिकारियों ने दोनों पक्षों के लोगों को समझा-बुझा कर सभी को मौके से हटा दिया। आक्रोशित लोगों ने रेलवे ट्रैक पर भी प्रदर्शन व पथराव किया। इससे दो घंटे तक रेल यातायात बाधित रहा। एसएसपी डीएम ने शांति समिति की बैठक में दोनों पक्षों के लोगों को बुलाया। प्रखंड सभागार में दोनों पक्षों से बातचीत की जा रही है।