भीम आर्मी के संस्थापक चंद्रशेखर आजाद ने एक बार फिर पीएम मोदी सहित पर हमला बोलते हुए विवादित बयान दिया है। उन्होंने दिल्ली के जंतर-मंतर से बहुजन हुंकार रैली को संबोधित करते हुए एक और भीमा कोरेगांव कांड करने की धमकी दी। उनका यह बयान हॉस्पिटल में प्रियंका वाड्रा से मुलाकात के बाद आया, जिसकी वजह से सोशल मीडिया में प्रियंका वाड्रा भी लोगो के निशाने पर है।

चंद्रशेखर आजाद ने कहा, “इस बार वोट देने से पहले रोहित वेमुला की शहादत याद रखना, अत्याचारी, अत्याचारी होता है। वो तुम्हारा कभी हितैषी नहीं हो सकता। इसलिए मैं कहता हूं भीमा कोरेगांव दोहरा देंगे। अभी उसकी जरूरत नहीं है। जिस दिन देश के संविधान पर आंच आई, भीमा कोरेगांव दोहरा देंगे।”

जो आज देश को संविधान पर हमला करने की धमकी दे रहा है, दो दिन पहले कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने उसे संघर्ष का मसीहा बताया था। ज्ञात हो कि बुधवार को कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा अचानक मेरठ के एक निजी अस्तपाल में भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर से मिलने पहुंच गई थी।

चन्द्रशेखर आजाद आदर्श आचार संहिता लगी होने के बावजूद जबर्दस्ती अपने समर्थकों के साथ रैली निकालते हैं। ब्राह्मण, जाट, राजपूत ठाकुर, गुर्जर और यादवों की खाल उतारने की धमकी देते हैं। हनुमान जी की तस्वीर पर चप्पल मारकर हिन्दुओं की भावनाओं को आहत करते हैं। भीम कोरेगांव हिंसा दोहराने की धमकी देते हैं। आए दिन भारत बंद करने की धमकी देते हैं। विडंबना देखिये ऐसे चंद्रशेखर को प्रियंका गांधी संघर्ष का मसीहा बताती हैं।

चन्द्रशेखर के इस बयान के बाद ट्विटर पर लोगो ने कांग्रेस और प्रियंका वाड्रा पर भी निशाना साधा, ट्विटर यूजर वीके शर्मा ने कहा, हिंसा की बात करने वालो को कांग्रेस बढ़ावा देती है, सरकार को तुरन्त रासुका में कार्रवाई करनी चाहिए।

 

एक और ट्विटर यूजर अनिल ने कहा, हिंसा की बात करने वालो से प्रियंका वाड्रा मिलने गयी थी, यह बेहद शर्मनाक है

रिद्धि नाम की यूजर ने कांग्रेस का हाथ दंगाईयो के साथ बताया।

 

 

Leave a Reply