तीन तलाक और हलाला के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में कानूनी लड़ाई लड़ रही महिला वकील फराह फैज कुछ समय पहले उस समय राष्ट्रीय स्तर पर चर्चा में आई थीं, जब उन्हें एक टीवी डिबेट के दौरान एक मौलवी ने पीट दिया था। फराज फैज एक बार फिर सुर्खियों में हैं, रविवार (2 सितंबर) को उन्होंने देवबंद में अपना धर्म परिवर्तन कर लिया। वे फराह फैज से ‘लक्ष्मी’ बन गईं। इस मौके पर देवबंद के भाजपा नेताओं और क्षत्रिय समाज के लोगों ने पगड़ी पहनाकर उनका स्वागत किया।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, धर्म परिवर्तन के बाद उन्होंने कहा कि, “हमारे पूर्वज क्षत्रिय थे। इसलिए मैं एक बार फिर से अपने धर्म में वापस आ गई हूं।”

इस मौके पर फराह ने दारुल उलूम और मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि, “यह देश शरीयत नहीं, बल्कि संविधान से चलेगा। शरीयत के नाम पर मुस्लिम महिलाओं का हक मारा जा रहा है। जबरन शरीयत थोपने वालों पर देशद्रोह का मुकदमा चलाना चाहिए। मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड भी दारुम उलूम का ही प्रोडक्ट है। आज मुस्लिम कट्टरपंथी नहीं चाहते कि देश में तीन तलाक बिल लागू हो। उन्हें डर है कि यदि यह बिल लागू हो गया तो हलाला, चार शादियां और फतवे की दुकान बंद हो जाएगी। लेकिन यह बिल लागू होने से मुस्लिम समाज का ही भला होगा। समाज की औरतों की जिंदगी में सुधार आएगा।” इसके साथ ही उन्होंने दारुल उलूम के पर खुद के उपर हमला करने का भी आरोप लगाया।

यहाँ पढ़े : शर्मनाक मौलाना कासमी ने सुप्रीम कोर्ट की महिला वकील फराह फैज को नेशनल टीवी पर थप्पड़ों से पीटा

अधिवक्ता फराह फैज ने दारुल उलूम के खिलाफ बोलते हुए कहा कि उसकी विचारधारा के मदरसे आतंक की शिक्षा देते हैं। फैज ने कहा कि दारुल उलूम में इस्लामी शिक्षा के नाम पर छात्रों के 15/20 साल खराब किए जा रहे हैं, जबकि यहां से मिलने वाली डिग्री से सरकारी नौकरी भी नहीं मिल सकती।

गौरतलब है कि टीवी चैनल जी हिंदुस्तान के लाइव डिबेट कार्यक्रम में तीन तलाक पर बहस चल रही थी। यूपी के बरेली की निदा खान के खिलाफ मौलवियों की ओर जारी फतवे पर चर्चा के दौरान मौलाना एजाज कासमी उग्र हो गए। वे फराह फैज पर भड़क गए। दोनों के बीच तीखी नोकझोंक होने लगी। अचानक मुफ्ती ने फराह पर हाथ उठा दिया था। इसके बाद फराह ने भी हाथ चला दिया। किसी तरह बीच बचाव कर वहां मौजूद लोगों ने स्थिति को नियंत्रित किया था। बाद में पुलिस ने मारपीट करने के आरोप में मुफ्ती एजाज अरशद को हिरासत में ले कर जेल भेज दिया गया था। इस घटना के बाद फराह फैज सुर्खियों में आ गईं थी। अब धर्म परिवर्तन के बाद वे फिर सुर्खियों में आ गई हैं।

आपकी जानकारी के लिए बता दे, फराज फैज सहारनपुर के एक मिडिल क्लास प्रोग्रेसिव मुस्लिम परिवार से आती हैं, अपने समय की सुपरहिट मूवी “निकाह” उनके मामा ने लिखी थी। फराज फैज ने हिन्दू समुदाय में शादी की हैं।