दिल्ली : आम आदमी पार्टी (AAP) के मुखिया और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind kejriwal)  ने कुछ दिन पहले केंद्र सरकार पर आरोप लगाया था कि बीजेपी ने 30 लाख वोटरों के नाम मतदाता सूची से कटवा दिया जिसमें बनिया वोटर सबसे ज्यादा हैं। हालांकि ट्विटर पर लगाये उनके इस आरोप को बनिया समाज ने खारिज कर दिया था और उन पर जातिवादी राजनीति का भी आरोप लगाया था।

बहरहाल, अरविंद केजरीवाल इतनी आसानी से कहाँ कुछ मानते हैं। आम आदमी पार्टी के बेहद खास सूत्र से मिली खबर के अनुसार उन्होंने तकरीबन 100 करोड़ रुपये खर्च करके नोयडा में कुछ कॉल सेंटर को आगामी लोकसभा चुनावों के लिए हायर किया हुआ हैं। यह कॉल सेंटर अब काम पर भी लग चुके हैं। ये दिल्ली के मतदाताओं को फोन करके बता रहे हैं कि हमने वोटर लिस्ट निकलवाई है। बीजेपी ने दिल्ली में 30 लाख लोगों के नाम वोटर लिस्ट से कटवा दिए हैं। उसमें आपका नाम भी है। यही बताने के लिए फोन किया है। आपका नाम कट गया है, पर चिंता मत कीजिए। दिल्ली के सीएम आपके साथ हैं।’

अब अगर बाकी सवालों को नजरअंदाज कर दें तो भी सबसे बड़ा सवाल यह उठता हैं की जब वोटर लिस्ट में मतदाता का मोबाइल नम्बर नही होता हैं तो मुख्यमंत्री केजरीवाल को दिल्ली के सभी लोगो का मोबाइल नम्बर कैसे मिला? जनता राज्य के कई विभागों में, योजनाओं में अपना मोबाइल नम्बर देती हैं, जैसे स्कूल, बिजली विभाग, गृहकर आदि में ताकि उन्हें महत्वपूर्ण सूचनाओं का अपडेट मिलता रहे, तो क्या केजरीवाल सरकार ने अपने पद का दुरूपयोग करके वहाँ से आम जनता के नम्बर निकलवाये? यदि हाँ तो इसकी जांच होनी चाहिए। यह निजता के अधिकार के हनन का मामला हैं। दूसरी बात अनचाही कॉल के खिलाफ ट्राई के सख्त कानून हैं, इसलिए केजरीवाल सरकार द्वारा हायर किये गए इन कॉल सेंटर्स की भी जांच कराई जानी चाहिये।

ट्विटर पर अकाली विधायक मनजिंदर सिंह सिरसा ने एक ऑडियो शेयर किया जिसमें उनके परचित मनोज कुमार के पास इस तरह की एक कॉल आयी थी। उन्होंने भी यह सवाल टेलीकॉलर से पूछा जिसे सुनने के बाद टेलीकॉलर चुप्पी साध गयी।

अकाली विधायक सिरसा ने एक और ट्वीट की जिसमें उन्होंने विक्रम कपूर के फेसबुक स्टेटस को शेयर किया, जिसमे विक्रम ने कहा कि इस तरह से फोन करना आपराधिक कृत्य हैं, और इसकी जांच चुनाव आयोग को करना चाहिए।

ऐसी ही कॉल का एक ऑडियो ट्विटर यूजर आकाश ने भी शेयर किया और कहा की आम आदमी पार्टी दिल्ली में कॉलसेंटर के जरिये लोगो को फोन करके प्रोपोगंडा फैला रही हैं। गौरतलब है कि इनका नाम कभी दिल्ली के वोटर लिस्ट में था ही नही ये हरियाणा में वोटर हैं।

ऐसी सैकड़ो शिकायत रोज ट्वीटर पर आ रही हैं, कुछ लोगो ने Epostmortem टीम को भी मैसेज करके इस प्रोपोगंडा कॉल के बारे में बताया हैं।

दिल्ली के रहने वाले नीतिन भाटिया इस तरह की कॉल से तंग आकर पुलिस में शिकायत की हैं। उन्होंने अपनी शिकायत में कहा कि आम आदमी पार्टी के लोग झूठा और भ्रामक प्रचार कर रहे हैं, इनके खिलाफ कारवाई की जाए।

आपको बता दें, अरविंद केजरीवाल हर हफ्ते किसी ना किसी नए झूठ और आरोप के साथ हाजिर होते ही रहते हैं। जिसे यह अदालत में कभी साबित नही कर पाते और फिर कानूनी कारवाई से डरकर सामने वाले से माफी मांगने लग जाते हैं। हैरानी की बात तो यह हैं कि पिछले घटनाकर्म से कोई सीख ना लेते हुए, यह अगले दिन फिर नए आरोप के साथ हाजिर हो जाते हैं। जहाँ बाकी लोगों का प्रयास व्यवस्था बदलने का होता हैं, वही इनका प्रयास हंगामा खड़ा करना होता हैं।

गौरतलब है, दिल्ली के मुख्य चुनाव अधिकारी रणदीप सिंह ने कहा कि वोट कटने के पीछे किसी की जाति या धर्म क्राइटेरिया नहीं है। मुख्य चुनाव अधिकारी ने कहा कि यह पूरी तरह गलत है और अकल्पनीय है कि वोटर्स के नाम जाति और धर्म के आधार पर बनाए जा रहे हैं और काटे जा रहे हैं। यह सारी प्रक्रिया कानून के मुताबिक ही की जाती है। मतदाता पत्र बनाने और नाम काटने की सारी प्रक्रिया कानून के मुताबिक ही की जाती है। बहरहाल इस मामलें में दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष मनोज तिवारी ने मुख्य चुनाव आयोग से इसकी शिकायत की हैं, राज्यसभा सांसद विजय गोयल ने लिखित शिकायत भी दर्ज करवायी हैं।