मोदी सरकार ने साफ सफाई और स्वच्छता की दिशा में एक और पहल करते हुए महिलाओं के कल्याण के लिए सोमवार को ढाई रुपये कीमत का सैनिटरी पैड (सुविधा) लांच किया। यह पर्यावरण अनुकूल है। प्रधानमंत्री भारतीय जनऔषधि परियोजना के तहत यह पैड देशभर में बेचा जाएगा।

केंद्रीय रसायन एवं उवर्रक राज्य मंत्री मनसुख लाल मंदाविया ने यहां पत्रकारों से कहा कि सुविधा ऑक्सो-बायोडिग्रेबल नाम के ये सैनिटरी पैड देशभर में 3,600 जनऔषधि केंद्रों पर उपलब्ध होंगे। यह केंद्र 33 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में फैले हैं।

प्राप्त जानकारी के अनुसार ढ़ाई रुपये की कीमत वाले पैड को 10 रुपये के पैकेट में बेचा जाएगा, जिसमें चार पैड मिलेंगे। सरकार का दावा है कि बॉयोडिग्रेडेबल होने की वजह से स्वच्छ भारत अभियान को भी मदद मिल सकेगी। मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताय कि 8 मार्च को अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर सुविधा बॉयोडिग्रेडेबल सैनेटरी नैपकिन को लॉन्च किया था, जिसे अब जनऔषधि केंद्रों पर लाने की तैयारी पूरी हो चुकी है। चूंकि ग्रामीण इलाकों की महिलाओं को सबसे ज्यादा परेशानी देखने को मिलती है। इसलिए सरकार का लक्ष्य है कि सबसे पहले इन इलाकों में इसे उपलब्ध कराया जाए। ताकि कोई भी महिला मासिक धर्म के दौरान होने वाले संक्रमण की चपेट में न आ सके।

सुविधा पैड के जारी होने से गरीब वर्ग की महिलाओं को स्वच्छता से जुड़ी उनकी मूलभूत जरूरत को पूरा करने में मदद मिलेगी। उन्होंने यह भी कहा कि नए सस्ते पैड बाजार में आने से प्रतिस्पर्धा बढ़ेगी और दूसरी कंपनियां भी अपने दाम कम कर सकतीं हैं।

फोन एप से भी की जा सकेगी ऑर्डर सूत्रों की मानें तो सरकार डिजिटल इंडिया के तहत फोन एप के जरिए भी महिलाओं को सुविधा सैनेटरी नैपकिन की निशुल्क होम डिलीवरी उपलब्ध करा सकती है। हालांकि फिलहाल इसके लिए कोई योजना नहीं है। लेकिन अधिकारियों का कहना है कि नेपकिन को बढ़ावा देने के लिए इसे ई मार्केट से जोड़ा जाएगा।