पुलवामा के शहीदों को 110 करोड़ का दान देने का ऐलान करने करने वाले कोटा के मुर्तजा अली पर अब सवाल उठने शुरू हो गए हैं। मुर्तजा अली की पारिवारिक पृष्ठभूमि और वित्तीय लेनदेन को देखते हुए इन घोषणाओं के पूरा होने में सन्देह हैं। उनके नजदीकी लोगो ने बताया की कुछ दिन पूर्व ही मुर्तजा द्वारा जारी किए 1 करोड़ 10 लाख का चेक बाउंस हो चुका हैं, ऐसे में पुलवामा के शहीदो को 110 करोड़ रुपये की मदद पर सवाल उठना तय हैं। आपको बता दें, मुर्तजा अली ने पुलवामा हमले के शहीदों के परिवारों को 110 करोड़, कोटा में स्टार हॉस्पिटल बनाने के लिए 250 करोड़ और 151 बेरोजगारों को मुफ्त में ट्रक देने की घोषणा की हैं।

घोषणाओं के बाद से ही मुर्तजा में लोगो की दिलचस्पी और जिज्ञासा बढ़ गयी। शहरवासियों और मीडियाकर्मियों ने जब मुर्तजा के बारे में खोजबीन की तो बेहद चौकाने वाली जानकारियां सामने आई। लोगो का कहना हैं कि घोषणाएं पूरी होती हैं तो बहुत मदद मिलेगी, लेकिन इसके साथ ही लोग पारिवारिक पृष्ठभूमि और अब तक के लेनदेन पर सवाल उठा रहे हैं। कोटा राजस्थान से छपने वाले अख़बार चंबल दैनिक सन्देश के मुताबिक मुर्तजा अली की आर्थिक स्थिति बेहद नाजुक हैं, ऐसे में वह कैसे पूलवामा के शहीद परिवारों की मदद कर पायेंगे

घोषणाएं जो पूरी नही हुई:

1- मुर्तजा ने करीब 3 माह पहले नान्ता में समाज का स्कूल बनवाने के लिए 1 करोड़ 10 लाख का चेक दिया था जो बाउंस हो चुका हैं।

2- बेरोजगारों को ट्रक देने की बात करीब एक साल से चल रही हैं। पहले 23 दिसम्बर, फिर जनवरी, फरवरी और अब मार्च में ट्रक देने की बात कही, इस सरोकार में मदद के लिए एक व्यापारी ने 9.50 लाख रुपये की ऑनलाइन मदद भी की हैं।

3- इसके पहले मुर्तजा ने मुम्बई में गरीबो के लिए मकान बनाने की घोषणा की थी। इसके लिए दो किश्तों में 53 करोड़ और 21 करोड़ देने की बात कही थी जो अब तक पूरी नही हुई हैं।

वित्तीय लेनदेन का हाल:

  • मुर्तजा ने एक व्यापारी से 18.50 लाख रुपये उधार लिए हैं। इस राशि के बदले चेक सौपा था। यह भी बाउंस हो गया।

  • इसके अलावा एक अन्य मामले में करीब साढ़े पांच लाख की राशि उधार हैं।

मुर्तजा के परिजनों ने भी इन घोषणाओं के बारे में ज्यादा बोलने से मना कर दिया। उन्होंने कहा वह काफी समय पहले मुम्बई चला गया था। कई वर्षों से कोटा नही आया। यह घोषणाएं किस आधार पर कैसे पूरी करेगा वही बता पाएगा।

नही हैं जन्म से अंधा:

मुर्तजा जन्मांध नही हैं, वह दिन में करीब 10 फुट की दूरी तक देख सकता हैं। रात में देखने मे परेशानी होती थी। इसके परिवार की कोटा मोटर मार्केट में ऑटो ऑयल ट्रेडर्स नाम से एक दुकान भी थी। अपेक्षाकृत आमदनी ना होने पर यह बन्द कर दी गयी।

NDTV चैनल पर रविश ने प्राइम टाइम में बुला कर की थी तारीफ :

अभी हाल ही में की गयी घोषणाओ के बाद NDTV चैनल के रविश ने मुर्तजा को प्राइम टाइम में बुलाया था और रिसर्च के विषय में बात की थी एवं साथ ही की गयी घोषणाओ की तारीफ करते हुए इनके इनकम की सोर्स पर चर्चा की थी। प्रथम दृष्टया तो मुर्तजा का रिसर्च एक हवाई रिसर्च लगता है, जो अगर विशेषज्ञ की मानें तो सम्भव नहीं है, फ्यूल बर्न टेक्नोलॉजी एवं उसका इस्तेमाल और फ्यूल बर्न होने से उत्पन्न  रेडियेशन को सेेटेलाइट तक भेजना और उससे इनफार्मेशन निकालना, फिर उससे गाड़ी के विषय में जानकारी देना मौजूदा हालातों में बिना कैमरे एवं जीपीएस के असम्भव सा प्रतीत होता है, खैर मुर्तजा के अनुसार उन्होंने इस रिसर्च की फाइल संस्थानों को प्रामाणिक जांच के लिए भेज रखी है। इस रिसर्च पर बाकि विशेषज्ञों की राय का इंतजार है।

इसके साथ ही चैनल पर मुर्तजा ने इन घोषणाओ को पूरा करने के लिए पैसे के स्त्रोत पूछने पर कोई स्पष्ट जवाब नहीं दिया था, टैक्सेबल इनकम बता के टाल दिया था।जब मुर्तजा के बाकि चेक बाउंस हो रहे हो और आय का कोई बड़ा स्त्रोत न हो तो इन घोषणाओँ  के पूरा होने में संदेह होना लाजिमी है।

 

3 COMMENTS

  1. My opinion is that, he is a fraud person. Though he has shown good intentions, his approach is highly illogical. You have to tolerate such people in the society; nothing can be done about it.