लोकसभा चुनाव के लिए राजनीतिक दलों के साथ साथ मीडिया ने भी जनता की आवाज उठाने और सरकारी योजनाओं की हकीकत जानने के लिए अपनी कमर कस ली है। सभी मीडिया हाउस अलग अलग स्थानों पर जाकर जनता से सवाल पूछ रहे हैं कि इस बार आम चुनाव में वो किस मुद्दे पर वोट देंगे और सत्तारूढ़ पार्टी या विपक्षी पार्टियों के बारे में उनकी राय क्या है।

इसी बीच सोशल नेटवर्किंग साइट ट्विटर पर एक पत्रकार ‘अभिसार शर्मा’ का वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमे कई ट्विटर यूजर्स ने उन पर जनता को पैसा देकर बीजेपी के खिलाफ बोलने का आरोप लगाया है। एक ट्विटर यूजर ‘वेद तिवारी’ ने यह वीडियो शेयर करते हुए शर्मा पर आरोप लगाया कि जनता को सरकार के खिलाफ बोलने के लिए अभिसार शर्मा पैसा दे रहे हैं।

यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होते ही यूजर्स की बहुत तीखी प्रतिक्रिया आ रही हैं, ‘चौकीदार बाला’ नाम के यूजर ने लिखा, “यह आदमी अच्छी पत्रकारिता के लिए रामनाथ गोयनका पुरस्कार प्राप्त कर चुका है और बीजेपी के खिलाफ बोलने के लिए गांव वालों को रिश्वत दे रहा है।”

संयम जैन ने लिखा, “अभिसार शर्मा ने खुद का पर्दाफाश किया। वह गांव वालों को पैसा देते हुए कैमरा बंद करना भूल गए”

यह है वह वीडियो जिसकी क्लिपिंग सोशल मीडिया में वायरल हो रही है।

हालांकि, अभिसार शर्मा ने इस मसले पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि ये पैसा नहीं है, बल्कि एक अखबार का टुकड़ा है।

हमारी जांच में ट्विटर पर वायरल हो रहे वीडियो गलत पाए गए और थोड़ी देर बाद अभिसार ने भी वो पूरा वीडियो शेयर किया और साबित किया कि ये पैसा नहीं, बल्कि अखबार का टुकड़ा है।

Leave a Reply