तमिलनाडु के कोयंबटूर में एक रुपए में इडली बेचने वाली अम्‍मा कमलाथल ने बीते दिनों खूब चर्चा बटोरी। इसके बाद अब अग्नि तीर्थम में रहने वाली एक 70 वर्षीय बुजुर्ग महिला की अदम्य भावना सामने आई है। रामेश्वरम के नजदीक फुटपाथ पर दुकान चलाने वाली यह महिला गरीबों को मुफ्त में इडली खिलाती हैं।

रानी ने बताया कि वह प्रति प्लेट इडली के लिए 30 रुपये लेती हैं लेकिन ग्राहकों पर इसके लिए जोर नहीं डालतीं। उन्होंने कहा कि जिसके पास पैसे नहीं होते वह उन पर पैसे देने का दबाव नहीं बनाती हैं। अगर पैसे नहीं हैं तो वह फ्री में ही इडली खा सकते हैं। रानी की यह व्यवस्था खासतौर पर गरीब तबकों के उन लोगों के लिए है, जिनके पास खाने के लिए पैसे नहीं होते। रानी ने बताया कि वह आज भी चूल्हे पर खाना बनाती हैं और ईंधन के लिए लकड़ी का इस्तेमाल करती हैं।

गौरतलब है कि तमिलनाडु के कोयंबटूर जिले की 80 साल की महिला कमलाथल अपने गांव में काम करने वाले मजदूरों को सिर्फ एक रुपए में भर प्लेट इडली और सांभर खिलाती हैं। कमलाथल की कहानी सोशल मीडिया पर जंगल की आग की तरह फैली, जब बिजनेस टायकून महिंद्रा समूह के अध्यक्ष आनंद महिंद्रा ने उन्हें एक साधारण झोपड़ी में इडली तैयार करते हुए वीडियो शेयर किया।

सरकार ने उन्हें आगे बढ़कर एलपीजी कनेक्शन जारी कर दिया और इसमें केंद्रीय पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस और स्टील मंत्री धर्मेद्र प्रधान में एक सक्रिया भूमिका निभाई।

महिंद्रा ने कहा, “यह शानदार है, कमलाथल को स्वास्थ्य की यह सौगात देने के लिए भारत गैस कोयंबतूर को धन्यवाद। जैसा कि मैंने पहले ही कहा था, मैं उनके निरंतर एलपीजी के लागत को वहन कर खुश होऊंगा.. और आपकी चिंता और विचारशीलता के लिए धन्यवाद, धर्मेद्र प्रधान।”